माता पिता परम आदरणीय
Next Article पुण्डलिक की मातृ पितृ भक्ति ने नारायण को भी प्रकट कर दिया
Previous Article मातृदेवो भव पितृदेवो भव

माता पिता परम आदरणीय

एक पिता अपने छोटे से पुत्र को गोद में लिए बैठा था। कहीं से उड़कर एक कौआ उनके सामने छज्जे पर बैठ गया। पुत्र ने पिता से पूछाः

“पापा ! यह क्या है ?”

पिताः “कौआ है।”

पुत्र ने फिर पूछाः “यह क्या है?”

पिता ने कहाः “कौआ है।”

पुत्र बार-बार पूछताः “पापा ! यह क्या है ?”

पिता स्नेह से बार-बार कहताः “बेटा ! यह कौआ है कौआ।”

कई वर्षों के बाद पिता बूढ़ा हो गया। एक दिन पिता चटाई पर बैठा था। घर में कोई उसके पुत्र से मिलने आया। पिता ने पूछाः “कौन आया है ?”

पुत्र ने नाम बता दिया। थोड़ी देर में कोई और आया तो पिता ने फिर पूछा। इस बार झल्लाकर पुत्र ने कहाः “आप चुपचाप पड़े क्यों नहीं रहते ! आपको कुछ करना धरना है तो नहीं, ‘कौन आया-कौन गया’ दिन भर यह टाँय-टाँय क्यों लगाये रहते हैं ?”

पिता ने लम्बी साँस खींची, हाथ से सिर पकड़ा। बड़े दुःखभरे स्वर में धीरे-धीरे कहने लगाः “मेरे एक बार पूछने पर तुम कितना क्रोध करते हो और तुम दसों बार एक ही बात पूछते थे कि यह क्या है ? मैंने कभी तुम्हें झिड़का नहीं। मैं बार बार तुम्हें बताताः बेटा कौआ है।”

बच्चो ! भूलकर भी कभी अपने माता पिता का ऐसे तिरस्कार नहीं करना चाहिए। वे तुम्हारे लिए परम आदरणीय हैं। उनका मान सम्मान करना तुम्हारा कर्तव्य है। माता-पिता ने तुम्हारे पालन-पोषण में कितने कष्ट सहे हैं। कितनी रातें माँ ने तुम्हारे लिए गीले में सोकर गुजारी हैं और भी तुम्हारे जन्म से लेकर अब तक कितने कष्ट तुम्हारे लिए सहन किये हैं, तुम कल्पना भी नहीं कर सकते। कितने-कितने कष्ट सहकर तुमको बड़ा किया और अब तुमको वृद्ध माता-पिता को प्यार से दो शब्द कहने में कठिनाई लगती है ! पिता को ‘पिता’ कहने में भी शर्म आती है।
Next Article पुण्डलिक की मातृ पितृ भक्ति ने नारायण को भी प्रकट कर दिया
Previous Article मातृदेवो भव पितृदेवो भव
Print
7406 Rate this article:
5.0
Please login or register to post comments.
RSS
First242243244245246247248249251