तुलसी एक, लाभ अनेक
Next Article बचपन से ही हो भगवद्भक्ति
Previous Article तुलसी पूजन की शास्त्रों में महिमा

तुलसी एक, लाभ अनेक

तुलसी शरीर के लगभग समस्त रोगों में अत्यंत असरकारक औषधि है ।
* यह प्रदूषित वायु का शुद्धीकरण करती है तथा इससे प्राणघातक और दुःसाध्य रोग भी ठीक हो सकते हैं । 
* प्रातः खाली पेट तुलसी का रस पीने अथवा ५-७ पत्ते चबाकर पानी पीने से बल, तेज और स्मरणशक्ति में वृद्धि होती है ।
* तुलसी गुर्दे की कार्यशक्ति को ब‹ढाती है । कोलेस्टड्ढोल को सामान्य बना देती है । हृदयरोग में आश्चर्यजनक लाभ करती है । आँतों के रोगों के लिए तो यह रामबाण है । 
* नित्य तुलसी-सेवन से अम्लपित्त (एसिडिटी) दूर हो जाता है, मांसपेशियों का दर्द, सर्दी-जुकाम, मोटापा, बच्चों के रोग विशेषकर कफ, दस्त, उलटी, पेट के कृमि आदि में लाभ होता है ।
* चरक सूत्र में आता है कि ‘तुलसी हिचकी, खाँसी, विषदोष, श्वास रोग और पाश्र्वशूल को नष्ट करती है । वह वात, कफ और मुँह की दुर्गंध को नष्ट करती है ।
* घर की किसी भी दिशा में तुलसी का पौधा लगाना शुभ व आरोग्यरक्षक है । 
* ‘तुलसी के निकट जिस मंत्र-स्तोत्र आदि का जप-पाठ किया जाता है, वह सब अनंत गुना फल देनेवाला होता है ।             (पद्म पुराण)
* ‘मृत्यु के समय मृतक के मुख में तुलसी के पत्तों का जल डालने से वह सम्पूर्ण पापों से मुक्त होकर भगवान विष्णु के लोक में जाता है ।
(ब्रह्मवैवर्त पुराण, प्रकृति खंड : २१.४२) 

Next Article बचपन से ही हो भगवद्भक्ति
Previous Article तुलसी पूजन की शास्त्रों में महिमा
Print
13464 Rate this article:
3.9
Please login or register to post comments.
RSS
First678911131415Last