वर्षा ऋतु में स्वास्थ्य-सुरक्षा

वर्षा ऋतु में स्वास्थ्य-सुरक्षा

वर्षा ऋतु का नमीयुक्त वातावरण जठराग्नि को मंद कर देता है । शरीर में पित्त का संचय व वायु का प्रकोप हो जाता है, जिससे वात-पित्त जनित व अजीर्णजन्य रोगों का प्रादुर्भाव होता है ।

अपनी पाचनशक्ति के अनुकूल मात्रा में हलका सुपाच्य आहार लेना और शुद्ध पानी का उपयोग करना - इन 2 बातों पर ध्यान देने मात्र से वर्षा ऋतु में अनेक बीमारियों से बचाव हो जाता है । शाम का भोजन 5 से 7 बजे के बीच कर लें । इससे भोजन का पाचन शीघ्र होता है ।

इस ऋतु में शरीर की रक्षा करने का एक ही मूलमंत्र है कि पेट और शरीर को साफ रखा जाय अर्थात् पेट में अपच व कब्ज न हो और त्वचा साफ और स्वस्थ रखी जाय । आयुर्वेद के अनुसार कुपित मल अनेक प्रकार के रोगों को जन्म देता है । इससे गैस की तकलीफ, पेट फूलना, जोड़ों का दर्द, दमा, गठिया आदि की शिकायत हो जाती है । अशुद्ध और दूषित जल का सेवन करने से चर्मरोग, पीलिया, हैजा, अतिसार जैसे रोग हो जाते हैं ।

बारिश में होनेवाली बीमारियाँ व उनका उपचार

(1) आँत की सूजन (gastroenteritis): गंदे पानी तथा दूषित खाद्य पदार्थों के सेवन से यह रोग फैलता है । इसमें उलटी, पतले दस्त, बुखार, रसक्षय (शरीर में पानी की कमी) इत्यादि लक्षण उत्पन्न होते हैं ।

प्राथमिक उपचार : सफाई का ध्यान रखें । भोजन में चावल का पानी (माँड़) तथा दही में समान भाग पानी मिला के मथकर बनाया हुआ मट्ठा लें । नमक व शक्कर मिलाया हुआ पानी बार-बार पियें, जिससे रसक्षय (डिहाइड्रेशन) न होने पाये । इसमें नींबू भी मिला सकते हैं । मूँग की दाल की खिचड़ी में देशी घी अच्छी मात्रा में डालकर खायें । अच्छी तरह उबाला हुआ पानी पियें । भोजन ताजा, सुपाच्य लें । 

(2) दस्त (bacillary dysentery): उपरोक्त अनुसार ।

(3) दमा: वर्षा ऋतु में बादलों के छा जाने पर दमे के मरीजों को श्वास लेने में अत्यधिक पीड़ा होती है । उस समय 20 मि.ली. तिल का तेल गर्म कर पियें । तिल या सरसों के गर्म तेल में थोड़ा-सा सेंधा नमक मिलाकर छाती व पीठ पर मालिश करें । फिर गर्म रेती की पोटली से सेंक करें ।

(4) सर्दी, खाँसी, ज्वर: वर्षाजन्य सर्दी, खाँसी, जुकाम, ज्वर आदि में अदरक व तुलसी के रस में शहद मिलाकर लेने से व उपवास रखने से आराम मिलता है ।

जठराग्नि को प्रदीप्त करने के उपाय

* भोजन में अदरक, हींग, अजवाइन, काली मिर्च, मेथी, राई, पुदीना आदि का विशेष उपयोग करें । तिल का तेल वात-रोगों का शमन करता है ।

* भोजन में अदरक व नींबू का प्रयोग करें । नींबू वर्षाजन्य रोगों में बहुत लाभदायी है ।

* 100 ग्राम हरड़ चूर्ण में 10-15 ग्राम सेंधा नमक मिला के रख लें । दो-ढाई ग्राम रोज सुबह ताजे जल के साथ लेना हितकर है ।

* हरड़ तथा सोंठ को समभाग मिलाकर 3-4 ग्राम मिश्रण 5 ग्राम गुड़ के साथ सेवन करने से जठराग्नि निरंतर प्रदीप्त रहती है ।

* वर्षाजन्य व्याधियों से रक्षा व रोगप्रतिकारक शक्ति बढ़ाने हेतु गोमूत्र सर्वोपरि है । सूर्योदय से पूर्व 20 से 30 मि.ली. ताजा गोमूत्र 8 बार महीन सूती वस्त्र से छानकर पीने से अथवा 20 से 25 मि.ली. गोझरण अर्क पानी में मिलाकर पीने से शरीर के सभी अंगों की शुद्धि होकर ताजगी, स्फूर्ति व कार्यक्षमता में वृद्धि होती हैŸ।

सावधानियाँ: वर्षा ऋतु में पानी उबालकर पीना चाहिए या पानी में फिटकरी का टुकड़ा घुमायें, जिससे गंदगी नीचे बैठ जायेगी ।

शाम को संध्या के समय घर में अँधेरा करने से मच्छर बाहर भाग जाते हैं । थोड़ा-बहुत धूप-धुआँ कर सकते हैं । और सुबह घर में अँधेरा होने से मच्छर अंदर घुसते हैं । उस समय उजाला करने से मच्छरों का प्रवेश रुकता है । गेंदे के फूलों के पौधे का गमला दिन में बाहर व संध्या को कमरे में रखें । गेंदे के फूलों की गंध से भी मच्छर भाग जाते हैं और मच्छरदानी आदि से भी मच्छरों से बचें, जैसे साधक अहंकार से बचता है ।

इन दिनों में ज्यादा परिश्रम या व्यायाम नहीं करना चाहिए । दिन में सोना, बारिश में ज्यादा देर तक भीगना, रात को छत पर अथवा खुले आँगन में सोना, नदी में स्नान करना और गीले वस्त्र जल्दी न बदलना हानिकारक होता है ।      

Previous Article पंचामृत रस
Next Article स्वास्थ्यप्रद व औषधीय गुणों से भरपूर ‘हींग’
Print
2887 Rate this article:
5.0
Please login or register to post comments.

Seasonal Care Tips