Suvichar

नश्वर शरीर में रहते हुए अपने शाश्वत स्वरूप को जान लो । इसके लिए अपने अहं का त्याग जरूरी है । यह जिसको आ गया, साक्षात्कार उसके कदमों में है ।

Print
235 Rate this article:
4.0
Please login or register to post comments.