Thought For The Day

सद्गुरु के दर्शन और सत्संग का फल न दुःख दे के अंत होता है न सुख देकर अंत होता है , वह तो अनंत से मिला के मुक्तात्मा बना देता है ।

Print
9754 Rate this article:
4.0
Please login or register to post comments.