सूर्यदेव की विशेष प्रसन्नता हेतु मंत्र
/ Categories: Uttarayaṇa

सूर्यदेव की विशेष प्रसन्नता हेतु मंत्र

ब्रम्हज्ञान सबसे पहले भगवान सूर्य को मिला था | उनके बाद रजा मनु को, यमराज को…. ऐसी परम्परा चली | भास्कर आत्मज्ञानी हैं, पक्के ब्रम्ह्वेत्ता हैं | बड़े निष्कलंक व निष्काम हैं | कर्तव्यनिष्ठ होने में और निष्कामता में भगवान सूर्य की बराबरी कौन कर सकता है ! कुछ भी लेना नहीं, न किसीसे राग है न द्वेष हैं | अपनी सत्ता-समानता में प्रकाश बरसाते रहते हैं, देते रहते हैं |

‘पद्म पुराण’ में सूर्यदेवता का मूल मंत्र है : 

" ॐ ह्रां ह्रीं सः सूर्याय नमः "

Om hraam hreem saha suryaay namah !!

One should pray Surya God on this day to eliminate personal evils/shortcomings and to preserve brahmacharya.

अगर इस सूर्य मंत्र का ‘आत्मप्रीति व आत्मानंद की प्राप्ति हो’ – इस हेतु से भगवान भास्कर का प्रीतिपूर्वक चिंतन करते हुए जप करते हैं तो खूब प्रभु-प्यार बढेगा, आनंद बढेगा |

Print
155 Rate this article:
5.0
Please login or register to post comments.

Uttarayana Audio

 


Uttarayaṇa Videos