Yogasana (Hindi)
Yogasana (Hindi)

योगासन (हिन्दी)

ISBN (Paper Back):978-93-90306-96-1    

दिन-प्रतिदिन बढ़ते जा रहे रोगों से बचने तथा उनके निवारण हेतु बिना खर्च, बिना किसी हानि के शरीर को स्वस्थ, मन को प्रसन्न और बुद्धि को निर्मल व कुशाग्र बनाने हेतु योगविद्या का आश्रय लेना बहुत ही हितकारी है । आसन शरीर के समुचित विकास के लिए अत्यंत उपयोगी सिद्ध होते हैं । वर्तमान युग के लोगों के लिए जो अति उपयोगी हैं और कम समय में अधिक लाभ पहुँचाते हैं ऐसे आसन - चित्र, विधि, सावधानियाँ, लाभ आदि के साथ इस ‘योगासन’ पुस्तक में दिये गये हैं । इनसे फायदा लेकर आप अपने स्वास्थ्यलाभ के साथ–साथ आध्यात्मिक लाभ भी पा सकते हैं । ‘योगासन’ पुस्तक में है :
* करोड़ों लोगों के जीवन को योगविद्या एवं अध्यात्मविद्या के पथ पर अग्रसर करनेवाले योगविद्या के धनी संत श्री आशारामजी बापू की संक्षिप्त जीवनी
* उत्तम स्वास्थ्य के लिए मंत्र
* ब्रह्मचर्य-रक्षा का मंत्र एवं उपाय
* आसन कब, कैसे, कहाँ करें ?
* योगासन से संबंधित ध्यान रखने योग्य आवश्यक बातें
* जीवनीशक्ति व बुद्धि का अलौकिक विकास करनेवाला : पद्मासन
* अलौकिक सिद्धियाँ प्रदान करनेवाला : सिद्धासन
* युवावस्था बरकरार रखने एवं मृत्यु पर विजय दिलानेवाला : सर्वांगासन
* शरीर को बलवान और तेजस्वी बनाने में सहायक : हलासन
* पेट की वायु व कब्ज का नाशक एवं स्मरणशक्तिवर्धक : पवनमुक्तासन
* गले, छाती व आँखों की अनेक बीमारियों एवं स्त्रियों के मासिकधर्म संबंधी रोगों को दूर करनेवाला : मत्स्यासन
* सर्वरोगनाशक व कुंडलिनी जागरण में सहायक : भुजंगासन
* आवाज को मधुर बनाने व चेहरे का सौंदर्य बढ़ानेवाला : धनुरासन
* शरीर तेजस्वी और फुर्तीला बनानेवाला : चक्रासन
* कमरदर्द, साइटिका, रीढ़ की हड्डी की जकड़न, नपुंसकता जैसे कई रोगों में लाभकारी : कटिपिंडमर्दनासन
* यौवन की स्फूर्ति बनाये रखने में मददगार : अर्धमत्स्येन्द्रासन
* यौनविकारनाशक, हृदय मजबूत बनाने व कुंडलिनीशक्ति को जागृत करने में सहयोगी : योगमुद्रासन
* संकल्पबल में वृद्धि व चित्त की चंचलता कम करनेवाला : गोरक्षासन
* मंदाग्निनाशक व ब्रह्मचर्यपालन में सहायक : मयूरासन
* पाचनशक्ति व स्नायुशक्ति वर्धक एवं शुक्रदोष, वीर्यदोष नाशक : वज्रासन
* स्वप्नदोष की समस्या दूर करने व कुंडलिनीशक्ति जागरण में सहायक : सुप्तवज्रासन
* मानसिक शक्तियों में वृद्धि करनेवाला : शवासन
* ब्रह्मचर्यपालन में विशेष लाभदायी एवं मृत्युनाशक आसन : पादपश्चिमोत्तानासन
* जीवन में क्रांतिकारी परिवर्तन लानेवाला - त्रिबंध
* सर्व मनोकामना पूर्ण करनेवाला : केवली कुम्भक
* छोटी-मोटी 1500 प्रकार की बीमारियों को दूर करनेवाला यौगिक प्रयोग : जलनेति
* कई रोगों में अद्भुत लाभकारी : गजकरणी
* चमत्कारिक लाभ देनेवाला : शरीर शोधन-कायाकल्प
* कलजुग नहीं... करजुग है यह (कविता)

Previous Article Tulsi Rahasya (Hindi)
Next Article Shraddh Mahima (Hindi)
Print
163 Rate this article:
3.4
Please login or register to post comments.