Tulsi Rahasya (Hindi)
Tulsi Rahasya (Hindi)

तुलसी रहस्य (हिन्दी)

ISBN (Paper Back):978-93-90306-48-0   ISBN (E-Book):978-93-90306-49-7  

तुलसी सम्पूर्ण धरा के लिए वरदान है, अत्यंत उपयोगी औषधि है, मात्र इतना ही नहीं, यह तो मानव-जीवन के लिए अमृत है ! तुलसी की महत्ता जन-जन तक पहुँच सके और लोग इसका लाभ ले सकें - इस उद्देश्य से पूज्य संत श्री आशारामजी बापू की प्रेरणा व विश्वमांगल्य की दृष्टि से ‘तुलसी रहस्य’ पुस्तक बनाने का प्रयास किया गया है । सत्शास्त्रों तथा पूज्य बापूजी के संदेशों व कुंजियों से संकलित इस पुस्तक में आप पायेंगे :
* शरीर-स्वास्थ्य, पर्यावरण, धार्मिक, आध्यात्मिक, वैज्ञानिक आदि विभिन्न दृष्टियों से तुलसी की महत्ता व उपयोगिता
* धन-सम्पदा, चेहरे की चमक व स्मृतिशक्ति बढ़ाने के उपाय
* घर के झगड़े, रोग-बीमारियाँ आदि कई समस्याओं का समाधान
* भगवद्भक्ति व सुख-शांति पाने के उपाय
* कैसे है तुलसी हमारी रक्षक और पोषक ?
* गुणों की खान : तुलसी
* तुलसी देती आरोग्य-लाभ के साथ सुख-शांति व समृद्धि भी
* शास्त्रों में वर्णित तुलसी-महिमा
* धन-सम्पदाप्रदायिनी व दरिद्रतानाशक तुलसी
* तुलसी एक, लाभ अनेक
* जब तुलसी के पौधे से निकले दिव्य पुरुष
* विज्ञान भी नतमस्तक हुआ तुलसी की उपयोगिता के आगे
* कम लागत, कम मेहनत और लाभ कई गुना
* तुलसी : एक अद्भुत औषधि
* तुलसी के कुछ औषधीय प्रयोग
* कैंसर मिटाने का अनुभूत उपाय
* ओजवान-तेजवान बनने का प्रयोग
* तुलसी की कुछ औषधियाँ
* तुलसी-पत्र तोड़ने का मंत्र, समय, दिन, सेवन आदि से संबंधित आवश्यक सावधानियाँ * तुलसी के प्रयोग से कैंसर से मुक्ति (अनुभव)
* 12 वर्षों के बाद मिला अनिद्रा से छुटकारा (अनुभव)
* तुलसी-माला की महिमा
* अकाल मृत्यु के बाद भी जीवात्मा को नहीं ले जा सके यमदूत - तुलसी-माहात्म्य की सत्य घटना
* तुलसी-माला बनी रक्षा-कवच (अनुभव)
* बापूजी से स्पर्शित तुलसी-माला बनी संजीवनी बूटी (अनुभव)
* घर के झगड़े मिटाकर सुख-शांति लाने हेतु एक उपाय
* 25 दिसम्बर को क्यों मनायें ‘तुलसी-पूजन दिवस’ ?
* विश्वगुरु भारत कार्यक्रम की रूपरेखा
* ‘घर-घर तुलसी लगाओ’ अभियान
* तुलसी और पर्यावरण
* उत्तम स्वास्थ्य एवं दीर्घायुष्य की प्राप्ति हेतु
* ‘कलियुगी पूतनाएँ’ हैं तथाकथित विदेशी गायें ?
* बल, बुद्धि, स्फूर्ति, स्मृतिवर्धक विभिन्न पेय
* तुलसी-महत्ता विषयक भगवान शिवजी के श्रीवचन
* भगवान रामजी, श्रीकृष्णजी, सीताजी व पार्वतीजी आदि अवतारों ने भी की तुलसी सेवा-पूजा

Previous Article Sukh Samriddhi Ka Aadhar Gaay (Hindi)
Next Article Yogasana (Hindi)
Print
138 Rate this article:
No rating
Please login or register to post comments.