Admin

Pujya Asaram Bapu ji (आसाराम बापू जी) Darshan Wallpaper 6th August 2013

गुरुकृपा तो हमेशा होती है । तुम ऐसी कल्पना करते हो कि वह एक ऐसी चीज है जो कहीं दूर, ऊंचे आसमान में है और वह उतरेगी । सचमुच वह तुम्हारे हृदय में है । जिस क्षण तुम मन को उसके अधिष्ठान में विलीन कर देते हो ,उसी क्षण तुम्हारे भीतर से गुरुकृपा का फव्वारा छूटता है ।

Previous Article Dhan Suvidha deta hai vasna ubharta hai jabki dharmayukt dhan ishwarprem ubharta hai - Asaram bapu ji Quote
Next Article सर्वपित्रृ अमावस्या पर सामूहिक श्राद्ध-तर्पण करते हुए श्रद्धालु भक्तः संत श्री आशारामजी आश्रम, पटियाला, पंजाब
Print
3100 Rate this article:
No rating
Please login or register to post comments.