प्रलोभनों एवं धमकियों से न हिलें
Next Article Celibacy - Divya Prerna Prakash App
Previous Article मेरे गुरु महान

प्रलोभनों एवं धमकियों से न हिलें

यदि आप संसार के प्रलोभनों एवं धमकियों से न हिलें तो संसार को अवश्य हिला देंगे | इसमें जो सन्देह करता है वह मंदमति है, मूर्ख है |
      -पूज्य संत श्री आशारामजी बापू

     📚जीवन रसायन क्रमांक - 20 


Next Article Celibacy - Divya Prerna Prakash App
Previous Article मेरे गुरु महान
Print
209 Rate this article:
No rating

Please login or register to post comments.

Name:
Email:
Subject:
Message:
x
RSS
12345678910Last