‘हिन्दू-मुस्लिम एकता मंच’ ने उठायी आवाज
Ashram India

‘हिन्दू-मुस्लिम एकता मंच’ ने उठायी आवाज

हिन्दू-मुस्लिम एकता मंच’ ने उठायी आवाज

बापू को जेल में डालना है पूरी मानवता के लिए अभिशाप, उनकी शीघ्र रिहाई हो

8 मई 2017 को हिन्दू-मुस्लिम एकता मंच के तत्त्वावधान में हिन्दू संगठनों के साथ कई मुस्लिम संगठनों के प्रतिनिधियों ने षड्यंत्र के तहत जेलों में बंद धर्मगुरुओं को रिहा करने, गौ-वध पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने आदि विषयों को लेकर जंतर-मंतर (दिल्ली) पर धरना-प्रदर्शन व अनशन किया ।

हिन्दू-मुस्लिम एकता मंच के महासचिव एडवोकेट शीराज कुरेशीजी ने कहा कि ‘‘संत श्री आशारामजी बापू को अंतर्राष्ट्रीय साजिश के तहत फँसाया गया है । उन पर लगाये गये आरोप बिल्कुल झूठे हैं । लालच देकर धर्म-परिवर्तन करानेवाली संस्थाओं पर बापूजी ने नकेल कस दी थी । बदले की भावना से अंतर्राष्ट—ीय स्तर की शक्तियों द्वारा बापूजी को बदनाम करने के लिए झूठा केस लगवाया गया है ।’’

अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री चन्द्रप्रकाश कौशिकजी ने कहा कि ‘‘आशारामजी बापू ने देश व धर्म की भलाई के लिए जितने भी कार्य किये हैं वे जगजाहिर हैं । उनको झूठे केस में फँसाया गया है । लड़की की मेडिकल रिपोर्ट में भी कुछ नहीं है... मैं क्या-क्या बयान करूँ, सारी चीजें आज जनता के सामने हैं । लोकसभा में और उत्तर प्रदेश के अंदर जनता ने, हमने, बापूजी के भक्तों ने चमत्कार कर दिया है । सरकार से सिर्फ यह निवेदन है कि अब आपकी बारी है, हमें इंतजार रहेगा कि निर्दोष संत आशारामजी बापू कब जेल से बाहर आयेंगे ?’’

अखिल भारत हिन्दू महासभा की राष्ट्रीय सचिव महंत डॉ. पूजा शकुन पांडे ने कहा : ‘‘आज बापूजी के ऊपर अभियोजन चलाये जा रहे हैं जबकि साक्ष्य अभी तक नहीं मिला ! तो आखिर क्यों उन्हें अब तक जेल में रखा गया है ? जिस तरह हमारी प्रज्ञा ठाकुर निर्दोष साबित हुईं लेकिन उनके 8-9 वर्ष खराब चले गये, ऐसे ही हमारे बापूजी का समय और बरबाद न कीजिये । आज इस देश को बापूजी के संरक्षण व नेतृत्व की बहुत आवश्यकता है । बापूजी जैसा आदर्श हमें दोबारा मिल नहीं सकता ।

हमारे शास्त्रों-पुराणों में आता है कि भगवान राम ने भी यातनाएँ सहीं, श्रीकृष्ण ने भी यातनाएँ सहीं तो बापूजी भी सह रहे हैं लेकिन मुझे पता है कि वे साक्षात् परब्रह्म हैं और वे जल्दी वापस आयेंगे । इतिहास इस बात का बहुत बड़ा गवाह है कि सत्य को प्रताड़ना मिली है, सत्य को बहुत सहना पड़ा है लेकिन सत्य की हार कभी नहीं हुई । सत्य हमेशा विजयी हुआ है ।’’

20 मई को मंच द्वारा राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को ज्ञापन भी भेजा गया, जिसमें निवेदन किया गया है कि ‘गौ, संतों व भारतीय संस्कृति के रक्षक संत श्री आशारामजी बापू द्वारा सम्पूर्ण मानवता के कल्याण हेतु अतुलनीय कार्य किये गये हैं । उनकी प्रेरणा व मार्गदर्शन से उनकी विभिन्न संस्थाओं द्वारा राष्ट्रीय एवं मानवीय उत्थान के अनेक कार्य किये जा रहे हैं । बापू को जेल में डालना पूरी मानवता के लिए अभिशाप है । अतः उनकी शीघ्र रिहाई हो ।’

कार्यक्रम में ऑल इंडिया मेव जमाते उलेमा मेवात के राष्ट्रीय अध्यक्ष खुर्शीद अहमद अमीनीजी, ग्वालियर शहर काजी राशिदऊद्दिनजी, मुहम्मद भुट्टो खान (अलीगढ़) तथा कई अन्य संगठनों के प्रतिनिधियों ने भी जनता को सम्बोधित किया ।

मंच के तत्त्वावधान में संवाददाता सम्मेलन भी आयोजित किया गया, जिसमें गौ-कथावाचक मोहम्मद फैज खान, मौलाना मुवीर (मेरठ), डॉ. मुफ्ती जाहिद अली खान (अलीगढ़) आदि ने पूज्य बापूजी की निर्दोषता के बारे में पत्रकारों को बताया ।

संवाददाता सम्मेलन के मुख्य अतिथि मुफ्ती सलीम कासमी ने कहा कि ‘‘हिन्दुस्तान में अमन, शांति, भाईचारा यहाँ के संतों-फकीरों के कारण ही है । संत आशारामजी बापू का अपमान पूरी दुनिया की इंसानियत पर कहर है । मालिक के सच्चे रास्ते पर चलनेवाले करोड़ों लोगों की श्रद्धा से खिलवाड़ किया जा रहा है । संत आशारामजी बापू के मामले में न्याय की समानता के अधिकारों का उल्लंघन हो रहा है । यह आज अन्याय का सबसे बड़ा उदाहरण बन गया है ।’’

सम्मेलन में उपस्थित अखिल भारतीय नारी रक्षा मंच की अध्यक्षा व रिटायर्ड लेफ्टिनेंट ऑफिसर श्रीमती रुपाली दुबे ने कहा : ‘‘बापूजी की प्रेरणा से सैकड़ों संस्थाएँ और लाखों-करोड़ों लोग पूरी विश्व-मानवता के कल्याण में लगे हुए हैं । ऐसे संत की रिहाई के लिए मानवाधिकार आयोग और वैश्विक नेतृत्व को सामने आना चाहिए ।’’

--------------------

‘Hindu-Muslim Ekta Manch’ raised voice

Bapuji’s incarceration is a bane for all of humanity, release Him at the earliest

On 8th May 2017, under the auspices of the Hindu-Muslim Ekta Manch, representatives of many Muslim organisations, along with Hindu organisations, protested via a sit-down and hunger-strike at Jantar-Mantar (Delhi), putting forth their demands on topics such as:  Release of incarcerated religious leaders jailed under conspiracy; complete ban on cow slaughter, etc.

Advocate Shiraz Quraishiji, General Secretary of the Hindu-Muslim Ekta Manch, said, “Sant Shri Asharamji Bapu has been framed under an international conspiracy. The charges against Him are false and manipulated. Bapuji reined in the organizations carrying out religious conversions with allurement. As an act of revenge, this false case has been framed against Bapuji by the powers on an international level so as to defame Him.”

National President, Akhil Bharat Hindu Mahasabha, Shri Chandraprakash Kaushikji said, “All the work done by Asharamji Bapu for the good of the nation and religion are globally known (and acknowledged). He has been implicated in a false case. The medical report of the girl does not contain any evidence regarding the allegation. What more can I say…… everything has already been revealed to the public. In Loksabha and Uttar Pradesh assembly elections, the general public, including us and the devotees of Bapuji taught a lesson to the ruling party. Our only request to the present Government is – it’s your turn now, we wait for the day and time when innocent Saint Asharamji Bapu is released from jail.”

The National General Secretary of ‘Akhil Bharat Hindu Mahasabha’, Mahant Dr. Pooja Shakun Pandey said, “Today Bapuji is facing prosecution even though no evidence has been found up until now! So why is He being kept in jail even now? Please don’t waste our Bapuji’s time anymore – similarly, our Pragya Thakur was proven innocent but lost a (precious) 8-9 years in vain. Today this country desperately needs the protection and leadership of Bapuji. There is no way we can ever find any role model like Bapuji.

As per our scriptures and puranas, even Lord Rama and Lord Krishna suffered agony, and Bapuji is also suffering; but I know that He is verily personified Supreme Brahman and  will come out of jail soon. History stands as a great witness to the fact that the truth has never been defeated despite being subjected to harassment and a lot of suffering. The truth always comes out victorious.”

On 20th May, a memorandum was issued on behalf of the Manch to the President, Prime Minister and Home Minister saying – ‘There have been incomparable service-works executed for the welfare of the entire humanity by Sant Shri Asharamji Bapu, the protector of cows, saints and Indian Culture. Numerous works for uplifting the nation and humanity are being carried out under His inspiration and guidance by various institutions running under His aegis. Bapuji’s incarceration is a bane for entire humanity and hence, He must be released soon.’

National President of All India Jamaat E Ulema Khurshid Ahmed Aminiji, Gwalior City Qazi Rashiduddinji, Mohammad Bhutto Khan (Aligarh) along with the representatives of several other organisations addressed the public.

A Press Conference was also organised in the auspices of the Manch, where Gau-Kathavachak Mohammad Faiz Khan, Maulana Muveer (Meerut), Dr. Mufti Zahid Ali Khan (Aligarh) and the likes enlightened journalists about Bapuji’s innocence.

The Chief Guest of the press conference Mufti Salim Qasmi said, “Peace, happiness and brotherhood prevail in India due only to the saints and mystics of this nation. The humiliation of Saint Asharamji Bapu is a havoc wreaked on the entire human race. The faith of tens of millions of people treading the true path to the Divine is being played with. In the case of Sant Asharamji Bapu, the rights to equality are being violated. This entire episode has become the biggest example of injustice today.”

Present at the conference, retired Lt. Officer Mrs. Rupali Dubey, president of ‘Akhil Bhartiya Nari Raksha Manch’ said, “Hundreds of institutions and tens of millions of people, under the inspiration and guidance of Bapuji, are engaged in the welfare of the entire humanity. Human Rights Commissions and global leaders should come forward to seek the release and acquittal of such a saint.”



Previous Article भगवान से बड़ा कौन व कैसे ? - स्वामी रामसुखदासजी
Print
578 Rate this article:
5.0

Please login or register to post comments.

Name:
Email:
Subject:
Message:
x