सस्ता, गुणकारी मौसमी फल : अमरूद

सस्ता, गुणकारी मौसमी फल : अमरूद

अमरूद स्वाद में मीठा होने के साथ सेहत की दृष्टि से भी उपयोगी फल है । यह मधुर-कषाय रसयुक्त, शीतल, पित्तशामक, कफ व वायु वर्धक, पेशाब को साफ लानेवाला, भूखवर्धक, प्यास को शांत व थकान को दूर करनेवाला है । पका अमरूद पेट साफ लानेवाला होता है ।

वर्तमानयुगीन रोगों से रक्षक

(१) हृदयरोग से रक्षा तथा उच्च व निम्न रक्तचाप नियंत्रण (high B.P. and low B.P. control) : आधुनिक अनुसंधानों के अनुसार अमरूद में प्रचुर मात्रा में केरोटिनोइड्स एवं पॉलीफिनोल्स पाये जाते हैं, जो रक्त में कोलेस्ट्रॉल को कम करके हृदय एवं रक्तवाहिनियों से संबंधित रोगों से रक्षा करने में सहायक हैं ।

(२) कैंसर से सुरक्षा : उपरोक्त रक्षक गुण के साथ अमरूद में पोषक गुण भी है । यह हृदय के लिए बल, स्फूर्ति व शक्ति प्रदायक एवं रक्तशुद्धिकर होता है । इसमें विटामिन ‘सी भी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जो कैंसर से लडने में सहायक होता है ।

पाचक, भूखवर्धक, बलप्रद

अमरूद के सेवन से स्नायुमंडल व पाचन-संस्थान को बल मिलता है तथा शरीर की अनावश्यक उष्णता कम होती है, वर्ण स्वच्छ होता है ।

बौद्धिक कार्यवालों को प्रकृति का उपहार

यह मस्तिष्क के लिए बलप्रद है अतः विद्यार्थियों एवं बौद्धिक कार्य करनेवालों के लिए इसका सेवन हितकारी है । पेट-संबंधी  रोगों के लिए यह उत्तम औषधि और आहार है । उन्माद (पागलपन) के रोग में इसका उपयोग हितकारी होता है ।

अन्य प्रयोग

* आधासीसी : कच्चे, हरे अमरूद को थोडे-से पानी के साथ पत्थर पर पीस के सूर्योदय से पहले माथे पर लेप करने से आधासीसी में लाभ होता है ।

* अमरूद की जायकेदार चटनी : अमरूद के पके फलों से बनी मीठी चटनी हृदय के लिए बलदायक एवं कब्ज में उत्तम लाभकारी है ।

सावधानी : (१) अमरूद के बीज बहुत सख्त होने से शीघ्र नहीं पचते और हानि करते हैं अतः उन्हें अच्छी तरह चबाकर ही खाना चाहिए ।

(२) अमरूद खाते समय छिलका नहीं निकालना चाहिए, छिलकारहित अमरूद कब्ज करता है ।

(३) इसका कच्चा फल अजीर्ण करनेवाला व उलटी, बुखार लानेवाला होता है ।

(४) जिनकी पाचनशक्ति कमजोर हो उन्हें अमरूद कम मात्रा में खाना चाहिए ।

(५) रात में अमरूद न खायें ।

विशेष

पके अमरूद के सेवन से रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढती है लेकिन पाचन से अधिक सेवन से बचना भी जरूरी है । अमरूद के अधिक सेवन से अजीर्ण होने पर सौंफ या गुड का सेवन करना चाहिए ।          

Previous Article सेहत का नगीना पुदीना
Next Article शक्तिवर्धक चना
Print
4918 Rate this article:
4.2
Please login or register to post comments.

Seasonal Care Tips