बुद्धि, मनोबल व शरीर-बल वर्धक बादाम

बुद्धि, मनोबल व शरीर-बल वर्धक बादाम

बादाम शारीरिक, मानसिक व बौद्धिक स्वास्थ्य को बढ़ाकर दीर्घायु बनाने में मदद करता है ।

आयुर्वेदानुसार बादाम मधुर, स्निग्ध, उष्ण, पचने में भारी, वजन बढ़ानेवाला, बलकारक, मांस व शुक्र वर्धक, हड्डियों को मजबूत बनानेवाला, स्नायु एवं तंत्रिकाओं (nerves) को बल देनेवाला, वातशामक तथा कफ-पित्तवर्धक है ।

आधुनिक अनुसंधान के अनुसार बादाम में विटामिन ‘ई’ तथा कैल्शियम, ताम्र, लौह, मैग्नेशियम, फॉस्फोरस, पोटैशियम, जिंक, मैंगनीज आदि खनिज प्रचुर मात्रा में पाये जाते हैं ।

बादाम का सेवन हृदयविकार के खतरे को बढ़ानेवाले हानिकारक कोलेस्ट्रॉल (LDL)को घटाता है, साथ ही लाभदायी कोलेस्ट्रॉल (HDL) को बढ़ाता है, जिससे हृदय व रक्तवाहिनियों से संबंधित रोगों (cardiovascular disease) की सम्भावना कम हो जाती है । यह स्तन-कैंसर व बड़ी आँत के कैंसर (colon cancer) के खतरे को भी कम करता है । इसमें मस्तिष्क की दुर्बलता को कम करने और उसे शक्ति देने का गुण है । बादाम का सेवन स्मरणशक्ति बढ़ाता है । आँखों की रोशनी बढ़ाने में लाभदायक है । इसे अंजीर के साथ खाने से कब्ज में लाभ होता है ।

बादाम का दूध एवं मक्खन

बादाम के उपयोग का उत्तम तरीका इसका मक्खन बनाकर सेवन करना है । इन्हें रातभर पानी में भिगोकर रखें एवं सुबह छिलका निकाल के पीस लें, बस तैयार है बादाम का मक्खन ! इसमें पानी मिलाने से बादाम का दूध बन जाता है जो बहुत ही स्वादिष्ट, सुपाच्य व पौष्टिक होता है । ये दूध तथा मक्खन शरीर द्वारा आसानी से ग्रहण कर लिये जाते हैं । जिनके आहार में प्रोटीन की कमी रहती है तथा जिन्हें ताजा, शुद्ध दूध उपलब्ध नहीं हो पाता हो अथवा दूध अनुकूल नहीं पड़ता हो उनके लिए बादाम का दूध व मक्खन बहुत ही लाभदायक है । सर्दियों में रात को 2-3 बादाम के साथ 2 काजू, 2 अखरोट की गिरी व 4-5 मूँगफली भिगो दें । सुबह पीसते समय इनके साथ थोड़ी-सी नारियल की गिरी डाल के इनका दूध बनाकर भी लिया जा सकता है ।

बादाम का पेय

रात को 3-4 बादाम एक कप गर्म पानी में भिगोकर रखें । सुबह उन्हें पानी के साथ पीस लें एवं 3-4 मिनट पकायें । बादाम का पेय तैयार है । 20-40 मि.ली. पेय प्रतिदिन सेवन करने से श्वसन एवं मूत्र-जननेन्द्रिय संस्थान के रोगों, मधुमेह (diabetes) तथा स्त्रियों के कमरदर्द एवं श्वेतप्रदर (leucorrhoea) में लाभ होता है ।

बादाम की सेवन-मात्रा : 1 से 5 बादाम (पाचनशक्ति के अनुसार)

Previous Article औषधीय गुणों से भरपूर व विविध रोगों में लाभदायी तोरई
Next Article कैसे उठायें लौकी का विविध प्रकार से लाभ
Print
8610 Rate this article:
4.2
Please login or register to post comments.

Seasonal Care Tips