Admin
/ Categories: PA-000585-Homoeopathy

होमियोपैथी क्या है ?

होमियोपथों के खोजकर्ता डॉ सेम्युल हेहनीमेन मुलतः एक एलोपेथ थे,   जो अपनी चिकित्सा प्रणाली से असंतुष्ट थे । पुराने शास्त्रों का अध्ययन करते
समय उन्होंने होमियोपैथी के विषय पाये, जिनके प्रयोग से उन्हें अच्छे परिणाम मिले और उन्होंने इस चिकित्सा प्रणाली का विकास किया । होमिओपैथो एक पूर्ण चिकित्सा पद्धती है जो सुरक्षित, सरल  व असरकारक है । यह व्यक्ति के प्राकृतिक स्वस्थ की पूर्ति करने में सहायता करता है - जिन बिमारियों से वह  त्रस्त हो रहा है । शरीर की बिमारियों से लड़ने की अपनी ही रोग-प्रतिकारक शक्ति होती है , जिसे होमियोपैथो चिकित्सा बढाती है । यह चिकित्सा पद्धती सभी को लाभान्वित क्र सकती है ।
होमियोपैथो कुछ ही बिमारियों के लिए पर्याप्त नहीं है बल्कि विश्व की सारी बिमारियों में उपयुक्त है ।
एलर्जिक बिमारियों में अनेक प्रकार की त्वचा की बिमारियों जैसे कि अट्रीकेरिया (शीतपित्त), एक्जीमा, आदि में यह अत्यंत असरकारक है । साथ-ही-साथ शारीरिक-मानसिक असंतुलन जैसे कि माइग्रेन,अस्थमा, एसिडिटी, पेप्टिक अल्सर, एलर्जी, अल्सरेटिव कोलाइटिस, एलर्जिक ब्रोंकईटिस, किडनी व पिशाब संबंधी रोग, नस-नाड़ियों के रोग, श्वास के व पेट सबंधी तकलीफों, आदि का सफलता से उपचार होता है ।
शरीर में उत्पन्न बिमारियों के कारण का मानसिकता से कैसा संबंध है यह होमियोपैथो अच्छे से पहचानती है । हर प्रकरण में मरीज की मानसिक व शारीरिक
स्थिति की जाँच करके ही उसके अनुकूल दवाई दी जाती है , जिससे बीमारी समूल नष्ट हो जाती है ।
होमियोपैथो केवल लाक्षणिक बीमारी का उपचार न करके पुरे व्यक्ति का उपचार करती है । होमियोपैथो दवाईयां मानसिक बा भावनात्मक असंतुलित स्थिति का भी उपचार करती है ।     

Previous Article अधिक जाने
Print
31196 Rate this article:
3.8

Please login or register to post comments.

Name:
Email:
Subject:
Message:
x

Admin
/ Categories: PA-000585-Homoeopathy

क्या करे क्या न करे

 

क्या करे क्या न करे

क्या करे -
- दवाई को हाथ लगाए बिना ढक्कन या चम्मच में लें ।
- दवाई खाली पेट ले, यानी दवाई के आधे घंटे बाद कुछ लें ।
- दवाई को चूसें, चबाए नहीं ।
- दवाई लेने से पूर्व साफ़ पानी से कुल्ला कर ले ।

क्या न करे -
-दवाई लेते समय उसे हाथों से न छुए ।
- दवाई के दौरान प्याज, लहसून, हिंग, कॉफ़ि, अनानस व मादक पदार्थ का सेवन न करें ।
- तेज खुशबु वाली वस्तुओं से दूर रहें ।

Previous Article होमियोपैथी क्या है ?
Next Article होम्योपैथिक उपचार :
Print
3713 Rate this article:
2.6

Please login or register to post comments.

Name:
Email:
Subject:
Message:
x