Hindi Books

Rishi Prasad

Rishi Prasad

ऋषि प्रसाद  -  पूज्य बापू के आशीर्वचन 

इस छोटी सी पुस्तिका में वे रत्न भरे हुए हैं जो जीवन को चिन्मय बना दें । हिटलर और सिकंदर की उपलब्धियों और यश उनके आगे अत्यंत छोटे दिखने लगे ।

तुम अपने सारे विश्व में व्याप्त अनुभव करो । इन विचार रत्नों को बार-बार विचारो । एकांत में शांत वातावरण में इन वचनों को दोहराओ । 

  Read more

Alakh Ki Aur

Alakh Ki Aur

जिनके सान्निध्य मात्र से आदमी की सहजता-सरलता छलकने लगती है, सुषुप्त अलख का आनंद प्रकट होने लगता है, ऐसे सम्प्रेक्षण-शक्ति के प्रदाता, भक्ति, ज्ञान और योग के अनुभवनिष्ठ ज्ञाता पूज्यपाद संत श्री आसारामजी बापू की सुमधुर सरिता से कुछ अमृतरस आपके समक्ष प्रस्तुत हैं।

  Read more

Jeete Ji Mukti

Jeete Ji Mukti

पूज्यपाद स्वामी जी की सहज बोलचाल की भाषा में ज्ञान, भक्ति और योग की अनुभव-सम्पन्न वाणी का लाभ श्रोताओं को तो प्रत्यक्ष मिलता ही है, घर बैठे अन्य भी भाग्यवान आत्माओं तक यह दिव्य प्रसाद पहुँचे इसलिए पू. स्वामी जी के सत्संग-प्रवचनों में से कुछ अंश संकलित करके यहाँ लिपिबद्ध किया गया है ।

  Read more

Yogyatra-4

Yogyatra-4

ब्रह्मवेत्ता महापुरुषों की उपस्तिथि मात्र से असंख्य जीवों को दृष्ट-अदृष्ट, सांसारिक-अध्यात्मिक सहायता प्राप्त होती है | प्रातः स्मरणीय परम पूज्य सदगुरुदेव संत श्री आसारामजी बापू की प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष प्रेरणा से जो लोग लाभान्वित हुए है, उनके परिप्लावित हृदयों के उदगार एवं पत्रों को लिपिबद्ध किया जाय तो एक-दो नहीं, कई ग्रंथ तैयार हो सकते है | इस पुस्तिका "योगयात्रा-४" में भक्तों के अनुभवों की बगिया से चुनें हुए थोडे-से पुष्प हैं |

  Read more

Shri Vishnu Sahasranaam Stotram

Shri Vishnu Sahasranaam Stotram

यस्य स्मरणमात्रेण जन्मसंसारबन्धनात् ।
विमुच्यते नमस्तस्मै विष्णवे प्रभविष्णवे ॥
नमः समस्तभूतानामादिभूताय भूभृते ।
अनेकरुपरुपाय विष्णवे प्रभविष्णवे ॥
...

  Read more

Yauvan Suraksha-2

Yauvan Suraksha-2

विभिन्न सामवियकों और समाचार पत्रों में तथाकथित पाश्चात्य मनोविज्ञान से प्रभावित मनोचिकित्सक और 'सेक्सेलोजिस्ट' युवा छात्र-छात्राओं को चरित्र-संयम और नैतिकता से भ्रष्ट करने पर तुले हैं। ऐसे समय में, युग की वर्तमान माँग को दृष्टि में रखकर युगपुरुष बापू ने अत्यन्त विलासपूर्ण कुत्सित वातावरण में भी आसानी से यौवन रक्षार्थ प्रभावोत्पादक वाणी में जो मार्गदर्शन दिया है, उसका युवावर्ग को पूर्ण लाभ मिले, इस भावना से प्रेरित हो समिति यौवन सुरक्षा का दूसरा भाग आपकी सेवा में प्रस्तुत करते हुए आनन्दानुभव कर रही है।

  Read more

Shraadh Mahima

Shraadh Mahima

 भारतीय संस्कृति की एक बड़ी विशेषता है कि जीते-जी तो विभिन्न संस्कारों के द्वारा, धर्मपालन के द्वारा मानव को समुन्नत करने के उपाय बताती ही है लेकिन मरने के बाद भी, अत्येष्टि संस्कार के बाद भी जीव की सदगति के लिए किये जाने योग्य संस्कारों का वर्णन करती है। ...

  Read more

Shri Guru Ramayan

Shri Guru Ramayan

श्लोक एवं अनुवाद

* अथ प्रथमो सर्गः * अथ द्वितियो सर्गः * अथ तृतियो सर्गः * अथ चतुर्थो सर्गः * मोक्षधामः * अथ पंचमो सर्गः * श्रीगुरुवन्दना

  Read more

Jivan Sourabh

Jivan Sourabh

संसार ताप से तप्त जीवों में शांति का संचार करने वाले, अनादिकाल से अज्ञान के गहन अन्धकार में भटकते हुए जीवों को ज्ञान का प्रकाश देकर सही दिशा बताने वाले, परमात्म-प्राप्तिरूपी मंजिल को तय करने के लिए समय-समय पर योग्य मार्गदर्शन देते हुए परम लक्ष्य तक ले जाने वाले सर्वहितचिंतक, ब्रह्मवेत्ता महापुरुषों की महिमा अवर्णनीय है।

  Read more

Shri Krishna Janmashtami

Shri Krishna Janmashtami

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी आपका आत्मिक सुख जगाने का, आध्यात्मिक बल जगाने का पर्व है । जीव को श्रीकृष्ण-तत्त्व में सराबोर करने का त्यौहार है । तुम्हारा सुषुप्त प्रेम जगाने की दिव्य रात्रि है ।
श्रीकृष्ण का जीवन सर्वांगसंपूर्ण जीवन है । उनकी हर लीला कुछ नयी प्रेरणा देने वाली है । उनकी जीवन-लीलाओं का वास्तविक रहस्य तो श्रीकृष्ण तत्त्व का आत्मरूप से अनुभव किये हुए महापुरूष ही हमें समझा सकते हैं ।

  Read more

Guru Aradhnawali

Guru Aradhnawali

प्रार्थना
आरती
गुरु वंदना
हाथ जोड़ वंदन करूँ
गुर्वष्टकम्
हे प्रभु ! आनन्ददाता
...

  Read more

Geeta Prasad

Geeta Prasad

श्री वेदव्यास ने महाभारत में गीता का वर्णन करने के उपरान्त कहा हैः
गीता सुगीता कर्तव्या किमन्यैः शास्त्रविस्तरैः ।
या स्वयं पद्मनाभस्य मुखपद्माद्विनिः सुता ।।

 ...

  Read more

Antar Jyot

Antar Jyot

इस पुस्तक में जीवन के मौलिक प्रश्न विषयक संतों-महापुरुषों का गहन वेदान्तिक अध्ययन एवं उनके अनुभव का नवनीत भिन्न-भिन्न प्रकार से प्रस्तुत किया गया है जो आज के दुर्बल तन-मन वाले समाज के लिए अत्यंत आवश्यक है। अगर पाँच-सात बार इसका पठन एवं मनन शांति पूर्वक किया जाय तो यह आध्यात्मिक नवनीत पुष्टिदायक सिद्ध होगा। इसके मनन से तमाम प्रश्नों के उत्तर भी भीतर से स्फुरित होने लगेंगे, ऐसी आशा है।

  Read more

Ekadashi Vrat Katha

Ekadashi Vrat Katha

पुराणों पर आधारित
एकादशी व्रत कथाएँ (माहात्म सहित)

एकादशी व्रत विधि
व्रत खोलने की विधि :
उत्पत्ति एकादशी
मोक्षदा एकादशी
...

  Read more

Balsanskar

Balsanskar

मनुष्य के भावी जीवन का आधार उसके बाल्यकाल के संस्कार एवं चारित्र्यनिर्माण पर निर्भर करता है। बालक आगे चलकर नेता जी सुभाषचन्द्र बोस जैसे वीरों, एकनाथजी जैसे संत-महापुरूषों एवं श्रवण कुमार जैसे मातृ-पितृभक्तों के जीवन का अनुसरण करके सर्वांगीण उन्नति कर सकें इस हेतु बालकों में उत्तम संस्कार का सिंचन बहुत आवश्यक है। बचपन में देखे हुए हरिश्चन्द्र नाटक की महात्मा गाँधी के चित्त पर बहुत अच्छी असर पड़ी, यह दुनिया जानती है।

  Read more
RSS

English Books