Sant Shri
  Asharamji Ashram

     Official Website
 
 

Register

 

Login

Follow Us At      
40+ Years, Over 425 Ashrams, more than 1400 Samitis and 17000+ Balsanskars, 50+ Gurukuls. Millions of Sadhaks and Followers.

 
पूज्य बापूजी की शीघ्र रिहाई एवं कुप्रचार के शमन एवं उत्तम स्वास्थ्य हेतु सात दिवसीय विशेष अनुष्ठान कार्यक्रम

                                                                                                                  गुरु ॐ

 पूज्य बापूजी की शीघ्र रिहाई एवं कुप्रचार के शमन एवं उत्तम स्वास्थ्य हेतु सात दिवसीय विशेष अनुष्ठान कार्यक्रम

 प्रिय आत्मन ,
        सभी क्षेत्रीय आपातकालीन समितियों को सूचित किया जाता है कि अपने क्षेत्रों के सभी  साधकों को PRO(लोक सम्पर्क) द्वारा सूचित करें ।
 अनुष्ठान हेतु नियम :-
a ) प्रातः काल ब्रह्ममुहूर्त में अनुष्ठान प्रारम्भ करें ।
b ) त्रिबंध प्राणायाम करें । श्वास रोककर पूज्य बापूजी के रिहाई हेतु संकल्प करें ।
c ) आहार सात्विक हो ।
d ) स्थान - अपने घर में पूजा स्थल अथवा निकटवर्ती आश्रम में भी कर सकते हैं ।
e ) पाठ - आदित्य हृदय स्तोत्र
f  ) जप -

( i ) पूज्य बापूजी के आरोग्यता एवं उत्तम स्वास्थ्य हेतु - महामृत्युंजय मंत्र का एक माला जप करें ।
मन्त्र : -ॐ हौं जूँ सः | ॐ भूर्भुवः स्वः | ॐ त्रयम्बकं यजामहे सुगंधिं पुष्टिवर्धनम् उर्व्वारुकमिव बंधनान्मृत्योर्मुक्षीय मामृतात ॐ | स्वः भुवः भूः ॐ | सः जूँ हौं ॐ |

ii) पूज्य बापूजी के केस में विजय प्राप्ति हेतु -
  " पवन तनय बल पवन समाना, बुद्धि विवेक विज्ञान निधाना " का एक माला जप करें ।

iii) "ॐ ह्रीं ॐ " मन्त्र का 120 माला जप करें । जप से पूर्व संकल्प -
"मैं पूज्य बापूजी के द्वारा दिये इस मन्त्र का जप इस उदेश्य से कर रहा/रही हूँ कि पूज्य बापूजी के खिलाफ हो रहे कुप्रचार बंद हों तथा शीघ्र ही बापूजी जेल से रिहा हो जाएँ । "
हाथ में अक्षत एवं जल लेकर यह संकल्प करें और छोड़ दें ।

एक विशेष प्रयोग -
शांत बैठकर भ्रूमध्य में बापूजी का ध्यान करें तथा उन्हें प्रेम पूर्वक प्रार्थना करें कि "हे गुरुदेव आप शीघ्र ही जेल से बाहर आकर हमे दर्शन एवं सत्संग लाभ दें । "

मंत्रानुष्ठान
जप संख्या :-
 
अनुष्ठान के नियम
Read Article

मंत्रानुष्ठान
‘श्रीरामचरितमानस’ में आता है कि मंत्रजप भक्ति का पाँचवाँ सोपान है |
 
मंत्रजाप मम दृढ़ विश्वासा |
पंचम भक्ति यह बेद प्राकासा ||

 
    मंत्र एक ऐसा साधन है जो मानव की सोयी हुई चेतना को, सुषुप्त शक्तियों को जगाकर उसे महान बना देता है |
 
    जिस प्रकार टेलीफोन के डायल में 10 नम्बर होते हैं | यदि हमारे पास कोड व फोन नंबर सही हों तो डायल के इन्हीं 10 नम्बरों को ठीक से घुमाकर हम दुनिया के किसी कोने में स्थित इच्छित व्यक्ति से तुरंत बात कर सकते हैं | वैसे ही गुरु-प्रदत्त मंत्र को गुरु के निर्देशानुसार जप करके, अनुष्ठान करके हम विश्वेशवर से भी बात कर सकते हैं |
    मंत्र जपने की विधि, मंत्र के अक्षर, मंत्र का अर्थ, मंत्र-अनुष्ठान की विधि जानकर तदनुसार जप करने से साधक की योग्यताएँ विकसित होती हैं | वह महेश्वर से मुलाकात करने की योग्यता भी विकसित कर लेता है | किन्तु यदि वह मंत्र का अर्थ नहीं जानता या अनुष्ठान की विधि नहीं जानता या फिर लापरवाही करता है, मंत्र के गुंथन का उसे पता नहीं है तो फिर ‘राँग नंबर’ की तरह उसके जप के प्रभाव से उत्पन्न आध्यात्मिक शक्तियाँ बिखर जायेंगी तथा स्वयं उसको ही हानि पहुंचा सकती हैं | जैसे प्राचीन काल में ‘इन्द्र को मारनेवाला पुत्र पैदा हो’ इस संकल्प की सिद्धि के लिए दैत्यों द्वारा यज्ञ किया गया | लेकिन मंत्रोच्चारण करते समय संस्कृत में हृस्व और दीर्घ की गलती से ‘इन्द्र से मारनेवाला पुत्र पैदा हो’ - ऐसा बोल दिया गया तो वृत्रासुर पैदा हुआ, जो इन्द्र को नहीं मार पाया वरन् इन्द्र के हाथों मारा गया | अतः मंत्र और अनुष्ठान की विधि जानना आवश्यक है |
 
1.    अनुष्ठान कौन करे ?: गुरुप्रदत्त मंत्र का अनुष्ठान स्वयं करना सर्वोत्तम है | कहीं-कहीं अपनी धर्मपत्नी से भी अनुष्ठान कराने की आज्ञा है, किन्तु ऐसे प्रसंग में पत्नी पुत्रवती होनी चाहिए |
स्त्रियों को अनुष्ठान के उतने ही दिन आयोजित करने चाहिए जितने दिन उनके हाथ स्वच्छ हों | मासिक धर्म के समय में अनुष्ठान खण्डित हो जाता है |
 
2.    स्थान: जहाँ बैठकर जप करने से चित्त की ग्लानि मिटे और प्रसन्नता बढ़े अथवा जप में मन लग सके, ऐसे पवित्र तथा भयरहित स्थान में बैठकर ही अनुष्ठान करना चाहिए |

3.    दिशा: सामान्यतया पूर्व या उत्तर दिशा की ओर मुख करके जप करना चाहिए | फिर भी अलग-अलग हेतुओं के लिए अलग-अलग दिशाओं की ओर मुख करके जप करने का विधान है |
‘श्रीगुरुगीता’ में आता है:
“उत्तर दिशा की ओर मुख करके जप करने से शांति, पूर्व दिशा की ओर वशीकरण, दक्षिण दिशा की ओर मारण सिद्ध होता है तथा पश्चिम दिशा की ओर मुख करके जप करने से धन की प्राप्ति होती है | अग्नि कोण की तरफ मुख करके जप करने से आकर्षण, वायव्य कोण की तरफ शत्रु नाश, नैॠत्य कोण की तरफ दर्शन और ईशान कोण की तरफ मुख करके जप करने से ज्ञान की प्राप्ति होती है | आसन बिना या दूसरे के आसन पर बैठकर किया गया जप फलता नहीं है | सिर पर कपड़ा रख कर भी जप नहीं करना चाहिए |
 
साधना-स्थान में दिशा का निर्णय:  जिस दिशा में सूर्योदय होता है वह है पूर्व दिशा | पूर्व के सामने वाली दिशा पश्चिम दिशा है | पूर्वाभिमुख खड़े होने पर बायें हाथ पर उत्तर दिशा और दाहिने हाथ पर दक्षिण दिशा पड़ती है | पूर्व और दक्षिण दिशा के बीच अग्निकोण, दक्षिण और पश्चिम दिशा के बीच नैॠत्य कोण, पश्चिम और उत्तर दिशा के बीच वायव्य कोण तथा पूर्व और उत्तर दिशा के बीच ईशान कोण होता है |

4.    आसन:  विद्युत के कुचालक (आवाहक) आसन पर व जिस योगासन पर सुखपूर्वक काफी देर तक स्थिर बैठा जा सके, ऐसे सुखासन, सिद्धासन या पद्मासन पर बैठकर जप करो | दीवार पर टेक लेकर जप न करो |

 
 
 
 

 

 
 
 


print

Tips for Mantra Anushthan

Mala Mantra :
जप करने से पूर्व माला को प्रणाम कर के मंत्र बोलें 

" ॐ ऐं श्री अक्ष मालाय नमः "

Online Mala Calculation
 
 
 
 
 
 
 
 
Saraswatya Mantra Anusthan for Students
Books
       

Bhagwaan Naam Jap Mahima

Read Online

Download PDF

MantraJaap Mahima Evam Anushthan Vidhi

Read Online

Download PDF

Ganesh Chaturthi

IshtaSiddhi

Read Online

Download PDF
 
Copyright © Shri Yoga Vedanta Ashram. All rights reserved. The Official website of Param Pujya Bapuji