सच्चा मित्र
Ashram India
/ Categories: Sadhana, FeaturedSadhana

सच्चा मित्र

- पूज्य संत श्री आशारामजी बापू


गुजराती भक्त-कवि नरसिंह मेहता ने गाया हैः

 

 

समरने श्रीहरि, मेल ममता परी

जोने विचारी ले मूल तारूँ ।

तुं अल्या कोण ने कोने वळगी रह्यो

वगर समज्ये कहे मारुं मारुं ।

यहाँ कवि नरसिंह मेहता कहते हैः 'ममता को छोड़कर जीव को श्रीहरि का स्मरण करना चाहिए । अपने मूल स्वरूप का विचार कर लेना चाहिए । तुम कौन हो और 'मेरा-मेरा' करके किसको पकड़कर बैठे हो ? जरा समझो । '

शास्त्रों ने पुत्र-परिवार का लालन-पालन करने की मना नहीं की है । धन और पद को पाने की मना नहीं की है लेकिन स्थूल शरीर से संबंधित जिन पुत्र-परिवार या धन के पीछे जीवन पूरा कर देते हो, उनमें से कुछ भी अंत समय में साथ में नहीं आता है । जिस नश्वर शरीर के लिये धन इकठ्ठा करने में कितने ही पाप-ताप सहे, कितने ही दाँव-पेच किये, उस शरीर को नहीं पर छोड़कर जाना पड़ता है । जिन पुत्र-परिवार के लालन-पालन में पूरा आयुष्य बिता दिया, उन पुत्र-परिवार को छोड़कर जाना पड़ता है ।

कर सत्संग अभी से प्यारे

नहीं तो फिर पछताना है ।

खिला-पिलाकर देह बढ़ायी

वह भी अग्नी में जलाना है ।

पड़ा रहेगा माल खजाना

छोड़ त्रिया सुत जाना है ।

कर सत्संग अभी से प्यारे

नहीं तो फिर पछताना है ।

अगर तुम पीछे पछताना नहीं चाहते तो पुत्र-परिवार, धन-पद आदि में आसक्ति मत करो । व्यवहार के लिये जितना आवश्यक हो उतना धन मिल जाये फिर और धन कमाने की, उसे संभालने की या उसे बढ़ाने की झंझट में पड़कर जीवन बरबाद मत करो । इस सबमें आसक्तिरहित होकर व्यवहार चलाओ और प्रीति केवल आत्मा-परमात्मा में रखो, उसे बढ़ाते जाओ क्योंकि आत्मा-परमात्मा का संबंध ही शाश्वत है । बाकी के सब संबंध नश्वर हैं ।

किसी आदमी के तीन मित्र थे । मित्र तो उसके साथ इतना गाढ़ संबंध नहीं रखते थे, परंतु उन लोगों में इस आदमी की थोड़ी-बहुत आसक्ति थी । पहले मित्र में तो इतनी ज्यादा आसक्ति थी कि जब उसके संग में रहता तब वह खाना-पीना और सोना भी भूल जाता था ।

दूसरे मित्र के साथ उस आदमी को दोस्ती पहले मित्र जैसी प्रगाढ़ नहीं थी । उसके साथ भी रहता था, घूमता-फिरता था और साथ में अपना काम भी निकाल लेता था । तीसरा मित्र उसे हमेशा अच्छी सीख देता कि 'दुर्लभ मनुष्य जन्म मिला है, इसका दुरूपयोग मत कर । इस शरीर को कितना भी खिलायेगा-पिलायेगा आखिर तो उसे स्मशान की अग्नि में जला देना है । तू अंतर्यामी परमात्मा का स्मरण कर । वही सदा के लिये तेरा साथी रहेगा ।' इस तीसरे मित्र की बातें उसे इतनी जँचती नहीं थी, इसलिए हप्ते-दो हप्ते में , महीने-दो महीने में उस मित्र से मिलता-न मिलता, उसकी बात सुनी-अनसुनी करके उससे विदा ले लेता था ।

दैवयोग से उस आदमी के ऊपर किसीने कुछ आरोप लगा दिया । सरकारी अमलदारों ने उसको जेल में डाल देने का आदेश दे दिया । यह सुनकर उसने सोचा कि 'मैं अपने मित्रों के पास जाऊँ । शायद वे मेरी कुछ मदद कर सकें तो मैं जेल में जाने से बच जाऊँ ।'

वह अपने पहले मित्र के पास गया और सारी बातें बताईं । उस मित्र ने कहाः "तेरे साथ मेरी दोस्ती कहाँ है ? तू ही मेरे पीछे-पीछे घूमता था । मेरे पास ऐसा फालतू समय नहीं है कि तेरे पीछे गँवाऊँ ।"

वह अपने दूसरे मित्र के पास गया और अर्ज करने लगा कि कुछ भी करो, मुझे जेल में जाने से बचा लो । तब दूसरे मित्र ने कहाः "जब पुलिस अमलदार में तुम्हें पकड़ने का आदेश दे ही दिया है तो अब मैं क्या कर सकता हूँ ? ज्याद-से-ज्यादा मैं पुलिस चौकी तक तुम्हार साथ दे सकता हूँ ।" वह निराश होकर बैठ गया ।

तीसरे मित्र को पता चला कि वह आदमी जो उसकी बात टाल देता है, उसे मिलने के लिये भी उत्सूक नहीं है वह बड़ी मुसीबत में है । वह तीसरा मित्र उसके पास दौड़ता चला आया और पूछने लगाः "मित्र ! क्या बात है ?  सुना है तुम किसी मुसीबत में फँस गये हो ?"

तब उस मित्र ने जवाब दियाः "मेरे मित्र ! तू चिन्ता मत कर । मैं तेरे साथ हूँ । तूने कुछ गलती नहीं की होती और सावधान रहा होता तो जेल जाने से बच जाता । अब जेल जाना भी पड़े तो भी मैं तेरे साथ रहूँगा । तेरा साथ नहीं छोडूँगा ।"

यह तो एक कल्पित कहानी है लेकिन अपने जीवन से जुड़ी हुई है ।

जिस तरह उस आदमी ने अपने पहले मित्र के लिये खाना-पीना-सोना छोड़ दिया, पुत्र-परिवार का भी खयाल नहीं रखा, लेकिन संकट के समय में उस मित्र ने जरा भी साथ नहीं दिया, उसी तरह मनुष्य का पहला मित्र धन है । जिस धन को प्राप्त करने के लिए मनुष्य खाना-पीना हराम करके भी लगा रहता है वह धन उसके मृत्यु के समय में काम नहीं आता है । जीव के लिये संकट का समय है मृत्यु । जीव को मृत्यु के समय यमदूत लेने आते हैं तब धन उसकी रक्षा नहीं करता है । वह तो कहता है कि 'मैंने तेरे साथ दोस्ती नहीं की, तू ही मेरे पीछे-पीछे घूमता था ।'

मनुष्य का दूसरा मित्र है पुत्र-परिवार । मनुष्य पुत्र-परिवार को सुखी करने के लिये कितने-कितने पापकर्म करता है लेकिन जब यमदूत मृत्युरूपी फाँसी लेकर आते हैं तब कुटुम्बी कहते हैः 'हम ज्यादा-से-ज्यादा स्मशान तक तुम्हारा साथ दे सकते हैं लेकिन तुम्हारे साथ नहीं आ सकते ।'

मनुष्य का तीसरा मित्र है धर्म । वह करता हैः 'मित्र ! तू चिन्ता मत कर । तू कहीं भी जाएगा, मैं तेरे साथ आऊँगा । मैं सदा तेरे साथ रहूँगा ।'

इस कहानी से समझ लेना चाहिए कि जिसको तुम 'मेरा' मानकर लिपटे रहते हो वह धन, पुत्र-परिवार तुम्हारा कहां तक साथ देता है ? धर्म ही मनुष्यमात्र का सच्चा मित्र है । जिस धन को कमाने के लिये तुम दिन-रात गँवा देते हो उस धन में सद्गुण तो सोलह हैं किन्तु दुर्गुण चौसठ हैं । धन ज्यादा होगा और उसका सदुपयोग नहीं किया तो जीवन में कोई न कोई दुर्गुण आ ही जाएगा जो जीवन को बरबाद कर देगा । जबकि धर्म लोक और परलोक दोनों में जीव का रक्षण करता है  अतः धर्म का ही आचरण करना चाहिए ।

वह धर्म क्या है ? जो समग्र विश्व को धारण कर रहा है उस आत्मा-परमात्मा का ध्यान करना, उस अंतर्यामी परमात्मा का ज्ञान पाना एवं 'आत्मा शाश्वत है और शरीर नश्वर है' ऐसी समझ को दृढ़ करके अपने आत्मस्वरूप को जानना ही धर्म है । 'जो स्थूल, सूक्ष्म और कारण शरीर को सत्ता दे रहा है वह चैतन्य आत्मा मैं हूँ' - ऐसा अनुभव पा लेना धर्म है ।

हम लोग स्थूल शरीर को 'मैं' मान रहे हैं इसलिए हमारे सच्चे मित्र धर्म का साथ नहीं ले सकते हैं । अगर हम धर्म के मार्ग पर चलना चाहते हैं तो अपनी समझ को बदलना होगा, हमारे व्यवहार को, हमारे चिंतन को बदलना होगा । जैसे स्थूल शरीर के लिये अन्न-फल आदि आहार की आवश्यकता है वैसे सूक्ष्य शरीर के लिये भी भगवन्नाम जप, ध्यान और आध्यात्मिक चिंतनरूपी आहार की जरूरत है । इन स्थूल-सूक्ष्म दोनों शरीरों को उचित मात्रा में यथायोग्य आहार मिलता रहेगा तो स्वस्थता और शांति सहज में मिल जाएगी । आत्मा-परमात्मा का रस प्रगट हो जाएगा ।

Previous Article Three Important Facts
Print
3604 Rate this article:
2.0

Please login or register to post comments.

Name:
Email:
Subject:
Message:
x

Sadhan Raksha Articles