Sant Shri
  Asharamji Ashram

     Official Website
 
 

Register

 

Login

Follow Us At      
40+ Years, Over 425 Ashrams, more than 1400 Samitis and 17000+ Balsanskars, 50+ Gurukuls. Millions of Sadhaks and Followers.
आदर्श विद्यार्थी के पाँच लक्षण
आदर्श विद्यार्थी के पाँच लक्षण

आदर्श विद्यार्थी के पाँच लक्षण

आदर्श विद्यार्थी के पाँच लक्षण बताये गये हैं-

काकचेष्टा बकध्यानं श्वाननिद्रा तथैव च।

स्वल्पाहारी ब्रह्मचारी विद्यार्थिपंचलक्षणम्।।

काकचेष्टाः जैसे कौआ हरेक चेष्टा में इतना सावधान रहता है कि उसको जल्दी पकड़ नहीं सकते, ऐसे ही विद्यार्थी को विद्याध्ययन के विषय मे हर समय सावधान रहना चाहिए। उसे समय व्यर्थ नहीं करना चाहिए। एक-एक क्षण का ज्ञानार्जन में सदुपयोग करना चाहिए।

बकध्यानः जैसे बगुला पानी में धीरे से पैर रखकर चलता है, उसका ध्यान मछली की ओर ही रहता है। ऐसे ही विद्यार्थी को खाना-पीना आदि सब क्रियाएँ करते हुए भी अपनी दृष्टि, ध्यान विद्याध्ययन की तरफ ही रखना चाहिए।

श्वाननिद्राः जैसे कुत्ता निश्चिंत होकर नहीं सोता, वह थोड़ी सी नींद लेकर फिर जग जाता है, नींद में भी सतर्क रहता है ऐसे ही विद्यार्थी को आरामप्रिय, विलासी होकर यथेच्छ नहीं सोना चाहिए, अपितु केवल स्वास्थ्य की दृष्टि से यथोचित सोना चाहिए।

स्वल्पाहारीः विद्यार्थी को उतना ही आहार लेना चाहिए जिससे आलस्य न आये, पेट याद न आये क्योंकि पेट दो कारणों से याद आता है, अधिक खाने से और भुखमरी से।

ब्रह्मचारीः विद्यार्थी को ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए। आश्रम से प्रकाशित 'दिव्य प्रेरणा-प्रकाश, निरोगता का साधन' एवं 'तू गुलाब होकर महक' आदि पुस्तकों के कुछ पन्ने रोज पढ़ने चाहिए व अपने जीवन को तदनुसार बनाने का प्रयत्न करना चाहिए। ये दो पुस्तकें बालकों के भावी जीवन को महानता के सदगुणों से भरने में सक्षम हैं।

स्रोतः लोक कल्याण सेतु, अप्रैल 2011, पृष्ठ संख्या 7, अंक 166

ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

 

print
  Comments

  6/12/2014 12:45:15 PM
sukhveer singh bansal 


book 
books names are so v. good
  6/12/2014 12:44:51 PM
sukhveer singh bansal 


book 
books names are so v. good
  4/4/2013 7:26:09 PM
VIJAYA 


New Comment 
New Comment
  4/4/2013 7:26:02 PM
VIJAYA 


New Comment 
New Comment
  2/22/2013 4:34:42 PM
Anonymous 


New Comment 
New Comment
  1/19/2013 6:30:51 PM
vikas kumar yadav 


New Comment 
New Comment
New Comment

New Comment adarsh vidyaharti hamesha bado ka aadar karta hai
sahi baat

  9/1/2012 3:57:34 AM
kenish chauhan 


New Comment 
New Comment adarsh vidyaharti hamesha bado ka aadar karta hai
  5/17/2012 3:11:24 AM
harshit 


New Comment 
it gives manners to us.............
  9/12/2011 12:31:05 AM
विकास भारद्वाज 


मुझे आज का कोलम अत्यंत सुन्दर लगा  
मुक्षे ऐसे विचार email के द्वारा भेजा जाऐ..... धन्यवाद।
  6/16/2011 10:02:38 AM
Pravin Chavare 


New Comment 
New Comment
Page 1 of 2First   Previous   [1]  2  Next   Last   

Your Name
Email
Website
Title
Comment
CAPTCHA image
Enter the code
  

 

Copyright © Shri Yoga Vedanta Ashram. All rights reserved. The Official website of Param Pujya Bapuji