प्रश्नोत्तरी

Q&A Videos

  • Loading videos, Please wait.

Q&A Audios

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 


आध्यात्मिक

RSS

तात्त्विक

RSS

आश्रमवासी द्वारा उत्तर

RSS

ध्यान विषयक

RSS
स्वादिष्ट और बलदायक: केला

स्वादिष्ट और बलदायक: केला

केला एक ऐसा विलक्षण फल है जो शारीरिक व बौद्धिक विकास के साथ उत्साहवर्धक भी है । पूजन-अर्चन आदि कार्यों में भी केले का महत्त्वपूर्ण स्थान है । केले में शर्करा, कैल्शियम, पोटैशियम, सोडियम, फॉस्फोरस, प्रोटीन्स, विटामिन ए, बी, सी, डी एवं लौह, ताँबा, आयोडीन आदि तत्त्वों के साथ ऊर्जा का भरपूर खजाना है ।


लाभ : (१) पका केला स्वादिष्ट, भूख बढ़ानेवाला, शीतल, पुष्टिकारक, मांस एवं वीर्यवर्धक, भूख-प्यास को मिटानेवाला तथा नेत्ररोग एवं प्रमेह में हितकर है ।


(२) केला हड्डियों और दाँतों को मजबूती प्रदान करता है । छोटे बच्चों के शारीरिक व बौद्धिक विकास के लिए केला अत्यंत गुणकारी है ।


(३) एक पका केला रोजाना खिलाने से बच्चों का सूखा रोग मिटता है ।


(४) यह शरीर व धातु की दुर्बलता दूर करता है, शरीर को स्फूर्तिवान तथा त्वचा को कांतिमय बनाता है और रोगप्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ता है ।


(५) केला अन्न को पचाने में सहायक है । भोजन के साथ १-२ पके केले प्रतिदिन खाने से भूख बढ़ती है ।


(६) खून की कमी को दूर करने तथा वजन बढ़ाने के लिए केला विशेष लाभकारी है ।


* आसान घरेलू प्रयोग *

स्वप्नदोष : २ अच्छे पके केलों का गूदा खूब घोंटकर उसमें १०-१० ग्राम शुद्ध शहद व आँवले का रस मिला के सुबह-शाम कुछ दिनों तक नियमित लेने से लाभ होता है ।

प्रदर रोग (महिलाओं की सफेद पानी पड़ने की बीमारी) : सुबह-शाम एक-एक खूब पका केला १० ग्राम गाय के घी के साथ खाने से करीब एक सप्ताह में ही लाभ होता है ।


शीघ्रपतन : एक केले के साथ १० ग्राम शुद्ध शहद लगातार कम-से-कम १५ दिन तक सेवन करें । शीघ्रपतन के रोगियों के लिए यह रामबाण प्रयोग माना जाता है ।


आमाशय व्रण (अल्सर) : पके केले खाने और भोजन में दूध व भात लेने से अल्सर में लाभ होता है ।
उपरोक्त सभी प्रयोगों में अच्छे-से पके चित्तीदार केले धीरे-धीरे, खूब चबाते हुए खाने चाहिए । इससे केले आसानी से पच जाते हैं, अन्यथा पचने में भारी भी पड़ सकते हैं । अधिक केले खाने से अजीर्ण हो सकता है । केले के साथ इलायची खाने से वह शीघ्र पच जाता है । अदरक भी केला पचाने में सहायता करता है ।


सावधानियाँ : केला भोजन के समय या बाद में खाना उचित है । मंदाग्नि, गुर्दों से संबंधित बीमारियों, कफजन्य व्याधियों से पीड़ित व मोटे व्यक्तियों को इसका सेवन नहीं करना चाहिए । केले को छिलका हटाने के बाद तुरंत खा लेना चाहिए । केले, अन्य फल व सब्जियों को फ्रिज में रखने से उनके पौष्टिक तत्त्व नष्ट होते हैं । 

Print
7613 Rate this article:
4.0
Please login or register to post comments.

Q&A with Sureshanand ji & Narayan Sai ji

“देखिये, सुनिए, बुनीये मन माहि, मोह मूल परमार्थ नाही” | इसका मतलब बताइए आप पूज्य श्री - घाटवाले बाबा प्रश्नोत्तरी ४

“देखिये, सुनिए, बुनीये मन माहि, मोह मूल परमार्थ नाही” | इसका मतलब बताइए आप पूज्य श्री - घाटवाले बाबा प्रश्नोत्तरी ४

कैसे जाने की हमारी साधना ठीक हो रही है ? कैसे पता चले के हम भी सही रस्ते है? कौनसा अनुभव हो तो ये माने की हमारी साधना ठीक चल रही है ?

कैसे जाने की हमारी साधना ठीक हो रही है ? कैसे पता चले के हम भी सही रस्ते है? कौनसा अनुभव हो तो ये माने की हमारी साधना ठीक चल रही है ?

RSS