प्रश्नोत्तरी

परिप्रश्नेन विडियो

1 2 3 4 5

आध्यात्मिक

मन एक ही होते हुए बुद्धि चित्त अहंकार किस प्रकार होता है काहे के लिए होता है ?

Admin 0 2270 Article rating: No rating

  मन एक ही होते हुए बुद्धि चित्त अहंकार किस प्रकार होता है काहे के लिए होता है ? हं !!! मन एक ही होते हुए भी बुद्धि और चित्त अहंकार बनता है  किस प्रकार बनता हैं काहे के लिए ?

बुद्धि क्या है, मन के आगे की यात्रा कैसे करें ?

Admin 0 5744 Article rating: No rating

गुरुदेव को कोटि –कोटि वन्दन ..!! गुरुदेव जैसा कि आपने कहा है कि इन्द्रियों को मन में लेकर आओ , मन को बुध्दि में लेकर आओ ...वो करते समय इन्द्रियाँ तो मन में आ जाती है मगर आगे कि यात्रा नही होती बुद्धि समझ में नही आती बुद्धि क्या है ? मन के आगे नही होती यात्रा ...तो जीवात्मा परमात्मा तक कैसे पहुँचे?

RSS
123456789

तात्त्विक

जगत है ही नहीँ, उसका अनुभव आत्मा को होता है या अहंकार को होता है ?

Admin 0 7738 Article rating: 4.1
 पूज्य बापूजी : जगत है भी, जैसे सपना दिख रहा है उस समय सपना है ; ये जगत नहीँ है ऐसा नहीँ लगता । जब सपने में से उठते हैं तब लगता है कि सपने की जगत नहीँ हैं । ऐसे ही अपने आत्मदेव में ठीक से जगते हैं तो ,फिर जगत की सत्यता नहीँ दिखती ; तो बोले जगत नहीँ हैं । 
RSS
1234

आश्रमवासी द्वारा उत्तर

How to obtain Saraswatya mantra diksha?

Admin 0 465 Article rating: No rating

Guruji I wanted a saraswati mantra diksha from you. I want to excel in my studies. Im surprised to see so much miracles and blessings you are showering upon your followers

RSS
1345678910Last

ध्यान विषयक

Admin

14th Mar: Shadshiti Sankranti(Punyakal: 4:58 pm to Sunset)

 

Print
647 Rate this article:
No rating
Please login or register to post comments.

EasyDNNNews

गुरुदेव ! सदा और सर्व अवस्थाओ में अद्वैत की भावना करनी चाहिए पर गुरु के साथ अद्वैत की भावना कदापि नही करनी चाहिए - ऐसा जो कहा गया है उसका रहस्य समझाने की कृपा करें।

Admin 0 7339 Article rating: 4.2
1 दिसंबर 2010
निरंतर अंक - 216

गुरुदेव ! सबकुछ जानते हुए भी मन में संशय उत्पन्न हो जाता है

Admin 0 4920 Article rating: 4.3
1 जनवरी 2011
अंक - 217
प्रश्न :- गुरुदेव ! सबकुछ जानते हुए भी मन मे संशय उत्पन्न हो जाता है। 
पूज्य बापूजी :- सब कुछ क्या जानते है ?
प्रश्नकर्ता :- जैसे कोई सही चीज हो तो उसके विषय मे मन में द्वंद उत्पन्न होने लगता है कि यह ऐसा है कि ऐसा है ?



RSS
123

Q&A with Sureshanand ji & Narayan Sai ji

कैसे जाने की हमारी साधना ठीक हो रही है ? कैसे पता चले के हम भी सही रस्ते है? कौनसा अनुभव हो तो ये माने की हमारी साधना ठीक चल रही है ?

पूज्य श्री - सुरेशानंदजी प्रश्नोत्तरी

Admin 0 4307 Article rating: 3.4
RSS
12