Sant Shri
  Asharamji Ashram

     Official Website
40+ Years, Over 425 Ashrams, more than 1400 Samitis and 17000+ Balsanskars, 50+ Gurukuls. Millions of Sadhaks and Followers.

गर्मियों में क्या करें, क्या न करें ?
गर्मियों में क्या करें, क्या न करें ?
गर्मियों में क्या करें, क्या न करें ?

 
इस ऋतू में वात का शमन करनेवाले तथा शरीर में जलीय अंश का संतुलन रखनेवाले मधुर, तरल, सुपाच्य, हलके, ताजे, स्निग्ध, रसयुक्त, शीतगुणयुक्त पौष्टिक पदार्थों का सेवन करना चाहिए ।

आहार : पुराने साठी के चावल, दूध, मक्खन तथा गाय के गहि के सेवन से शरीर में शीतलता, स्फूर्ति और शक्ति आती है । सब्जियों में लौकी, कुम्हड़ा (पेठा), परवल, हरी ककड़ी, हरा धनिया, पुदीना और फलों में तरबूज, खरबूजा, नारियल, आम, मौसमी, सेब, अनार, अंगूर का सेवन लाभदायी है ।

नमकीन, रूखे, बासी, तेज मिर्च-मसालेदार तथा तले हुए पदार्थ, अमचूर, अचार, इमली आदि तीखे, खट्टे, कसैले एवं कड़वे रसवाले पदार्थ न खायें ।

कच्चे आम को भूनकर बनाया गया मीठा पना, नींबू-मिश्री का शरबत, हरे नारियल का पानी, फलों का ताजा रस, ठंडाई, जीरे की शिकंजी, दूध और चावल की खीर, गुलकंद तथा गुलाब, पलाश, मोगरा आदि शीतल व सुगंधित द्रव्यों का शरबत जलीय अंश के संतुलन में सहायक है ।

धुप की गर्मी व लू से बचने के लिए सर पर कपडा रखना चाहिए एवं थोड़ा-थोड़ा पानी पीते रहना चाहिए । उष्ण वातावरण से ठंडे वातावरण में आने के बाद तुरंत पानी न पियें, १०-१५ मिनट के बाद ही पियें । फ्रिज का नही, मटके या सुराही का पानी पियें ।

विहार : इस ऋतू में 'प्रातः पानी-प्रयोग' अवश्य करना चाहिए । वायु-सेवन, योगासन, हल्का व्यायाम एवं तेल मालिश लाभदायक हैं ।

रात को देर तक जागना और सुबह देर तक सोये हना त्याग दें । अधिक व्यायाम, अधिक परिश्रम, धुप में टहलना, अधिक उपवास, भूख-प्यास ष्ण तथा स्त्री-सहवास ये सभी इस ऋतू में वर्जित है ।


 


View Details: 2326
print
rating
  Comments

There is no comment.

 

Health Links
Minimize
Copyright © Shri Yoga Vedanta Ashram. All rights reserved. The Official website of Param Pujya Bapuji