Sant Shri
  Asharamji Ashram

     Official Website
 
 

Register

 

Login

Follow Us At      
40+ Years, Over 425 Ashrams, more than 1400 Samitis and 17000+ Balsanskars, 50+ Gurukuls. Millions of Sadhaks and Followers.
Search
Minimize
Search
Health Links
Minimize
healthy_living

4/10/2012 8:58:00 PM
healthy_living-clock

4/27/2013 9:48:00 AM
Kishmish_healthyLiving

Importance Of Kishmish

More...
Tips_For_Pregnancy

6/15/2012 8:00:00 AM
HighBP&LowBP

6/15/2012 8:13:00 AM
Chyawanprash

 By using this divine rasayan Old Chyawan Rushi regained youth. It improves & maintains youth, memory, grasping power, skin glow, physical strength. Achyutaya Chyawanprash is useful in chronic debilitating diseases, T.B., chronic respiratory tract disorders, malnourished & thin built individuals. Useful in male & female infertility. The best health booster for daily use in all age group.


Directions of Use :  1 to 2 t.s.f. twice a day on empty stomach ( Dose depends upon age, weight & illness of the individuals) OR as directed by physician.
 Note :- Do not take milk 2 hr. before & 2 hr. after medicine.

Main Ingredients :  Emblica officinalis(amla), Boerhaavia Diffusa(punarnava)  and more than 56 divine medicine from himalaya

 

4/10/2012 8:07:00 PM
Aloe Vera Juice

Aloe-Vera juice

This works as a liver-tonic. Balances all the three doshas & improves apetite.Useful in liver dysfunction, jaundice, anaemia, hepatomegaly, splenomegaly, ascitis, generalized edema(anasarca) etc.It purifies the blood therefore useful in skin diseases, herpes, Internal hotness, gout, menstrual irregularity, pain during menses(dysmenorrhoea), eye diseases etc 
3/31/2012 9:04:00 PM
मंत्र से आरोग्यता :-
मंत्र से आरोग्यता :-
मंत्र से आरोग्यता :-

मंत्र से आरोग्यता :-

शब्दों की ध्वनि का अलग-अलग अंगों पर एवं वातावरण पर असर होता है। कई शब्दों का उच्चारण कुदरती रूप से होता है। आलस्य के समय कुदरती आ... आ... होता है। रोग की पीड़ा के समय ॐ.... ॐ.... का उच्चारण कुदरती ऊँह.... ऊँह.... के रूप में होता है। यदि कुछ अक्षरों का महत्त्व समझकर उच्चारण किया जाय तो बहुत सारे रोगों से छुटकारा मिल सकता है।
'अ' उच्चारण से जननेन्द्रिय पर अच्छा असर पड़ता है।
'आ' उच्चारण से जीवनशक्ति आदि पर अच्छा प्रभाव पड़ता है। दमा और खाँसी के रोग में आराम मिलता है, आलस्य दूर होता है।
'इ' उच्चारण से कफ, आँतों का विष और मल दूर होता है। कब्ज, पेड़ू के दर्द, सिरदर्द और हृदयरोग में भी बड़ा लाभ होता है। उदासीनता और क्रोध मिटाने में भी यह अक्षर बड़ा फायदा करता है।
'ओ' उच्चारण से ऊर्जाशक्ति का विकास होता है।
'म' उच्चारण से मानसिक शक्तियाँ विकसित होती हैं। शायद इसीलिए भारत के ऋषियों ने जन्मदात्री के लिए 'माता' शब्द पसंद किया होगा।
'ॐ' का उच्चारण करने से ऊर्जा प्राप्त होती है और मानसिक शक्तियाँ विकसित होती हैं। मस्तिष्क, पेट और सूक्ष्म इन्द्रियों पर सात्त्विक असर होता है।
'ह्रीं' उच्चारण करने से पाचन-तंत्र, गले और हृदय पर अच्छा प्रभाव पड़ता है।
'ह्रं' उच्चारण करने से पेट, जिगर, तिल्ली, आँतों और गर्भाशय पर अच्छा असर पड़ता है।

- लोक कल्याण सेतु, नवम्बर 2010

 
 

 
 

View Details: 3312
print
rating
  Comments

guru dev
Created by swapnil dubey in 1/10/2013 2:38:13 PM
babpu ji main
main ek cyber cafe chala rha hu , mere cafe intna chan nahi chaltha,mere job bhi nahi lag rahi hai, base mere ko ab job nahi karni lekin mera business inta bada do taki main apne pariwar ka pet pal saku mere uper kripa karo app sab ke uper kripa kar rahe hai mere uper kab karoge.

New Comment
Created by Anonymous in 1/6/2013 6:57:21 PM
New Comment

 

Copyright © Shri Yoga Vedanta Ashram. All rights reserved. The Official website of Param Pujya Bapuji