X
GO

diwali banner Bapuji


Vedic way of Diwali Celebration

Sant Shri Asaram Bapu Ji encourages Sadhaks to celebrate Diwali in “Vedic way”, by helping poor and deprived. Bapuji not only teaches about this concept of “Vasudhaiva Kutumbakam”, but also implements this in His actions. Every year Bapuji along with His devotees used to celebrate Diwali by organizing Satsang Programmes, free distribution of food grains, clothes, utensils note-book to children, sweets, etc. and cash distribution with bhandaras.
Millions of poor, deprived and orphans have been benefited through Bapuji’s divine selfless social services

ऐसी दिवाली मनाते हैं पूज्य बापूजी

संत हृदय तो भाई संत हृदय ही होता है। उसे जानने के लिए हमें भी अपनी वृत्ति को संत-वृत्ति बनाना होता है। आज इस कलयुग में अपनत्व से गरीबों के दुःखों को, कष्टों को समझकर अगर कोई चल रहे हैं तो उनमें परम पूज्य संत श्री आसाराम जी बापू सबसे अग्रणी स्थान पर हैं। पूज्य बापू जी दिवाली के दिनों में घूम-घूम कर जाते हैं उन आदिवासियों के पास, उन गरीब, बेसहारा, निराश्रितों के पास जिनके पास रहने को मकान नहीं, पहनने को वस्त्र नहीं, खाने को रोटी नहीं ! कैसे मना सकते हैं ऐसे लोग दिवाली? लेकिन पूज्य बापू द्वारा आयोजन होता है विशाल भंडारों का, जिसमें ऐसे सभी लोगों को इकट्ठा कर मिठाइयाँ, फल, वस्त्र, बर्तन, दक्षिणा, अन्न आदि का वितरण होता है। साथ-ही-साथ पूज्य बापू उन्हें सुनाते हैं गीता-भागवत-रामायण-उपनिषद का संदेश तथा भारतीय संस्कृति की गरिमा तो वे अपने दुःखों को भूल प्रभुमय हो हरिकीर्तन में नाचने लगते हैं और दीपावली के पावन पर्व पर अपना उल्लास कायम रखते हैं।

PUJYA BAPUJI CELEBRATES DIWALI IN THE FOLLOWING MANNER :

The hearts of SANT (self realized saints) are the hearts of SANT. To know that we need to make our thoughts and views as that of SANT. Today in this age of KALYUGA, if someone understands the problems and troubles of the destitute, and walks to help them then SANT SRI ASARAM JI BAPU is in the front. On the occasion of diwali, PUJYA BAPUJI visits those poor, ill-fated who don’t have houses to live, clothes to wear and food to eat. How can these people celebrate Diwali? But large BHANDARA (free distribution of food) are being organized by PUJYA BAPUJI, where these unfortunate people and called and being offered sweets, fruits, clothes, utensils, money, food etc. free of cost. In addition to this PUJYA BAPUJI give them the wisdom of Gita Bhagwat, Ramayan, Upnishad and the superiority of Indian culture. So they forget their difficulties and dance and enjoy with the hymns of HARINAM (pious name of God) and celebrate Diwali delightfully.

 

What to do on Diwali Night

Laxmi Prapti Ka Durlabh Mantra
Safety with fire cracker in Diwali
पूज्य बापूजी के मंगलमय दर्शन एवं दीपावली सन्देश
अच्छी दिवाली हमारी

सभी इन्द्रियों में हुई रोशनी है।
यथा वस्तु है सो तथा भासती है।।
विकारी जगत् ब्रह्म है निर्विकारी।
मनी आज अच्छी दिवाली हमारी।।1।।
दिया दर्शे ब्रह्मा जगत् सृष्टि करता।
भवानी सदा शंभु ओ विघ्न हर्ता।।
महा विष्णु चिन्मूर्ति लक्ष्मी पधारी।
मनी आज अच्छी दिवाली हमारी।।2।।
दिवाला सदा ही निकाला किया मैं।
जहाँ पे गया हारता ही रहा मैं।।
गये हार हैं आज शब्दादि ज्वारी।
मनी आज अच्छी दिवाली हमारी।।3।।
लगा दाँव पे नारी शब्दादि देते।
कमाया हुआ द्रव्य थे जीत लेते।।
मुझे जीत के वे बनाते भिखारी।
मनी आज अच्छी दिवाली हमारी।।4।।
गुरु का दिया मंत्र मैं आज पाया।
उसी मंत्र से ज्वारियों को हराया।।
लगा दाँव वैराग्य ली जीत नारी।
मनी आज अच्छी दिवाली हमारी।।5।।
सलोनी, सुहानी, रसीली मिठाई।
वशिष्ठादि हलवाइयों की है बनाई।।
उसे खाय तृष्णा दुराशा निवारी।
मनी आज अच्छी दिवाली हमारी।।6।।
हुई तृप्ति, संतुष्टता, पुष्टता भी।
मिटी तुच्छता, दुःखिता दीनता भी।।
मिटे ताप तीनों हुआ मैं सुखारी।
मनी आज अच्छी दिवाली हमारी।।7।।
करे वास भोला ! जहाँ ब्रह्म विद्या।
वहाँ आ सके न अंधेरी अविद्या।।
मनावें सभी नित्य ऐसी दिवाली।
मनी आज अच्छी दिवाली हमारी।।8।।
ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ

Click to Enter Main Festival Page

dhanteras

Narak chaturdashi choti diwali