Latest Sadhaks Blog Posts

Poverty
- by naomiyang
0 92

गुरु कृपा से भयंकर दुर्घटना टली

Visit Author's Profile: bipin rai

गुरु कृपा से भयंकर दुर्घटना टली

मुझे पूज्य बापू जी से मंत्र दीक्षा प्राप्त होने के बाद मेरा जप - ध्यान व ऋषिप्रसाद की सेवा अखण्डरूप से चल रही है।
एक बार मैं और मेरे पति कार से  जा रहे थे। बारिश के कारण सड़क फिसलाऊ हो गयी थी। गाड़ी तेज गति से जा रही थी।
अचानक रेलवे क्रासिंग देखकर पति ने ब्रेक लगाए, जिससे गाड़ी अनियंत्रित होकर 180 डिग्री (ठीक विपरीत दिशा में) घूम गयी।
सड़क की दोनो तरफ 10 - 10 फीट गहरी खाईयाँ थी। यह देख मैं घबरा गई। और मेरे मुहँ से बस
इतना ही  निकला: ' बापूजी!  बचाओ !' इतने में कार रुक गयी।
और हम भयंकर दुर्घटना से बच गए। अगर गाड़ी ज़रा-सी भी 
इधर -उधर  हो जाती तो  न जाने  हमारा क्या होता !  
बापू जी ने मेरी पुकार सुनकर हमारी जान बचाई।
मेरे पति पहले बापूजी को नही मानते थे पर दुर्घटना से बचने से वे बहुत प्रभावित हुए। बोले कि
 " मानना पड़ेगा,  गुरुकृपा में शक्ति होती है अब मैं भी मंत्रदीक्षा लूँगा।"
     सभी गुरुभाई बहनों को गुरुदेव से मंत्रदीक्षा के  समय जो नियम मिले है उन्हें वे कभी न छोड़ें।
सद्गुरु, प्रदत्त  कष्ट और अनिष्ट से हमारी रक्षा करते हैं ।
इष्ट जब मजबूत होता है तो अनिष्ट नहीं होता।

          - श्रीमती शीला सिंह
         मोबाइल 9452419257
ऋषिप्रसाद जुलाई2018  पृष्ठ संख्या 32 अंक 1  निरन्तर अंक307
Previous Article गुरु कृपा से पूरे भारत में पाया प्रथम स्थान
Next Article गुरुकृपा से हज़ारों गाँव वालों को मिली सूखे से राहत
Print
726 Rate this article:
5.0
Please login or register to post comments.