Odia Books

Baal Sanskar (Odia)
Baal Sanskar (Odia)

बाल संस्कार (Hindi)

   

"बाल संस्कार"  सरल, सुबोध शैली में बच्चों में सुसंस्कारों का सिंचन करने हेतु तथा उत्तम चारित्र्य-निर्माण में सहायक बालोपयोगी सामग्री का संकलन है ‘बाल संस्कार’ पुस्तक । बच्चों में छुपे असीम सामर्थ्य को विकसित करने में अमूल्य योगदान देनेवाली है यह पुस्तक । इसकी मदद से देश-विदेश में स्थित हजारों ‘बाल संस्कार केन्द्र’ बच्चों में सुसंस्कार-सिंचन का कार्य कर रहे हैं । इसमें है माता-पिता, शिक्षकों और बच्चों के लिए उपयोगी अनेक जानकारियाँ :

* कैसी हो विद्यार्थी की आदर्श दिनचर्या ?

* स्मरणशक्ति बढ़ाने के सरल उपाय

* विभिन्न रोगों में उपयोगी कुछ मुद्राएँ, प्राणायाम व आसन

* स्मृतिशक्ति बढ़ाने में बहुत उपयोगी – ध्यान व त्राटक

* शक्तिसंचय का महान स्रोत – मंत्रजप-मौन

* ओज, तेज, बुद्धि और जीवनीशक्ति के विकास में सहायक - त्रिकाल-संध्या

* शारीरिक, मानसिक स्फूर्ति जगानेवाला तथा विचारशक्ति व स्मरणशक्ति का विकास करनेवाला - सूर्यनमस्कार

* आध्यात्मिक शक्तियों के केन्द्र - सात यौगिक चक्र

* उत्साह, तत्परता, निर्भयता और प्राणशक्ति जगानेवाली - प्राणवान पंक्तियाँ

* सद्गुणों का संचार करनेवाली – साखियाँ व श्लोक

* महान, सफल एवं सबका प्यारा बनानेवाले आदर्श बालक के गुण ?

* भारतीय संस्कृति की परम्पराओं का तात्त्विक व वैज्ञानिक महत्त्व

* विद्यार्थी परीक्षा में सफलता कैसे पायें ?

* विद्यार्थी छुट्टियाँ कैसे मनायें ?

* आप जन्मदिवस कैसे मना रहे हैं - प्रकाश करके या अँधेरा करके ?  जानें सही तरीका

* उज्ज्वल भविष्य बनाने में मददगार - कुछ शिष्टाचार व जीवनोपयोगी नियम

* सद्गुणों को पोषित करनेवाली प्रेरक कहानियाँ

* दाँतों और हड्डियों के दुश्मन हैं बाजारू शीतल पेय

* चाय-कॉफी पीने के घातक दुष्परिणाम

* भयसूचक घंटी है - फास्टफूड जैसे आधुनिक खान-पान ?

* सौंदर्य-प्रसाधनों में छिपी हैं निरपराध, बेजुबान प्राणियों की मूक चीखें और हत्या

* बाजारू आइसक्रीम - कितनी खतरनाक, कितनी खाद्य ?

* दुष्ट कर्मों को भड़कानेवाला व अनेक घातक बीमारियों की जड़ : मांसाहार 

* आप चॉकलेट खा रहे हैं या निर्दोष बछड़ों का मांस ?

* जानलेवा रोगों की जड़ : अंडा

* तड़प-तड़पकर मौत देनेवाला : गुटखा-पानमसाला

* जीते जी नरकमय जीवन बनानेवाले साधन

* सोने के तरीके से जानें बच्चे की मानसिक व आंतरिक अवस्था

* सुदृढ़ राष्ट्र के निर्माण हेतु पूज्य संत श्री आशारामजी बापू का पावन संदेश

* मेरी वासना उपासना में बदली (अनुभव)

* माँ-बाप को भूलना नहीं (भजन)

Next Article Nari Tu Narayani (Odia)
Print
218 Rate this article:
4.7
Please login or register to post comments.