Aatmasakshatkar Videos


ब्रह्मरामायण का पाठ करने से शरीर की नश्वरता और ब्रह्म की सत्यता पक्की होती है |

Aatmasakshatkar Audios



इश्वर प्राप्ति सहायक साहित्य

  • इश्वर की और 
  • मन को सीख 
  • निर्भय नाद 
  • जीवन रसायन 
  • दैवी सम्पदा 
  • आत्मयोग 
  • साधना में सफलता 
  • अलख की ओर
  • सहज साधना 
  • शीघ्र इश्वरप्राप्ति 
  • इष्टसिद्धि 
  • जीते जी मुक्ति 
  • ब्रह्मरामायण
  • सामर्थ्य स्त्रोत 
  • मुक्ति का सहज मार्ग 
  • आत्मगुंजन 
  • परम तप 
  • समता साम्राज्य 
  • अनन्य योग 
  • श्री योग वाशिष्ठ महारामायण 

Self-realization

Admin
/ Categories: PA-000637-Tips English

Self-realization

Those who want to attain realisation in this birth itself, are enthusiastic about quickly achieve it, they should make four sections of one’s daily routine.
One Prahar – AUM kar japa (One prahar equals 3 hours)
One Prahar – Spend time in remembrance of Supreme soul and meditate on it
One Prahar – Reading scriptures
One Prahar – Company of Sadguru and his selfless service

One prahar i.e. three hours of practising scriptures of Vedanta, three hours of recitation of AUM kar mantra, three hours of meditation, three hours of dedicated selfless service and company of Sadguru, this approach will help in quick attainment of the supreme realisation. One year is more than enough.

If you want to achieve God in a year, then this is the right approach. But if you want to attain him at your own comfort, then even God will say that I will come, visit you at leisure.

- Pujya Bapuji

Print
4158 Rate this article:
3.8
Please login or register to post comments.

Self Realization (English)

RSS

आत्मसाक्षात्कार सहायक

RSS

परिप्रश्नेन

परमात्मप्राप्ति में नियमो का पालन जरुरी है कि सिर्फ परमात्मा के प्रति तड़प बढ़ाने से ही परमात्मप्राप्ति हो सकती है

परमात्मप्राप्ति में नियमो का पालन जरुरी है कि सिर्फ परमात्मा के प्रति तड़प बढ़ाने से ही परमात्मप्राप्ति हो सकती है

पूज्य बापूजी ! ईश्वरप्राप्ति हमारा लक्ष्य है लेकिन व्यवहार में हम भूल जाते है और भटक जाते है। कृपया व्यवहार में भी अपने लक्ष्य को सदैव याद रखने की युक्ति बताये।

पूज्य बापूजी ! ईश्वरप्राप्ति हमारा लक्ष्य है लेकिन व्यवहार में हम भूल जाते है और भटक जाते है। कृपया व्यवहार में भी अपने लक्ष्य को सदैव याद रखने की युक्ति बताये।

RSS

आत्मगुंजन