aboutus-banner_newRudraksh%20lks%20sliding%20bannerConspiracyAgainstHinduism-Save-Cows-Bapuji-ne-Gau-sewa-sikhayi
AkhilBharatiya

Divine Satsang by Shri Rama Bhai : Gondia (Maharashtra)

12th - 18th Oct

शरद पूनम (कोजागिरी)निमित्त 
श्री रामा भाई का सत्संग एवं शरद पूनम महोत्सव :  गोंदिया आश्रम (महा.) में
12 अक्टूबर 2019, शनिवार दोपहर 3 बजे से एवं
13 अक्टूबर 2019, रविवार सुबह 6 बजे से ध्यान व योगा सत्र एवं रात्रि 9 बजे से शरद पूनम महोत्सव
स्थान : संत श्री आशारामजी बापू आश्रम, मोक्षधाम के पास, हरिओम मार्ग, गोंदिया (महा.)
संपर्क : 9657074697, 9326640011, 9422833511, 9765239087


शरद पूनम (कोजागिरी)निमित्त 
श्री रामा भाई का सत्संग : खैरी (बेटाळा) जिला : भंडारा में
16 अक्टूबर 2019, बुधवार दोपहर 2:30 बजे से..
स्थान : नवतरुण शारदा उत्सव मंडल, ग्राम : खैरी जिला : भंडारा (महा.)
संपर्क : 9096532068, 9764663519, 9371846700, 7798154825


शरद पूर्णिमा के पावन उपलक्ष्य पर
श्री रामा भाई का सत्संग : साकोली (महा.) में
17 & 18 अक्टूबर 2019 दोप. 1:00 बजे से..
स्थान : संत लहरीबाबा मठ (देवस्थान), मेन रोड, साकोली (महा.)
संपर्क : 9423371989, 9403958551, 9404308530, 9421709070

Previous Article Divine Satsang by Shri Vasudevanandji : Goregaon-Mumbai & Alandi-Pune (Maharashtra)
Print
206574 Rate this article:
4.3
LocationGondia (Maharashtra)
Date_Time12th - 18th Oct
Please login or register to post comments.

About Us

सबका मंगल ,सबका भला का उदघोष करनेवाले प्रातः स्मरणीय पूज्य संत श्री आशारामजी बापू अपने साधकों को भक्तियोग, ज्ञानयोग के साथ-साथ निष्काम कर्मयोग का भी मार्ग बताते है | देशभर में फैली श्री योग वेदांत सेवा समितियों के सहयोग से राष्ट्रभर में नई आध्यात्मिक चेतना जगाकर पूज्यश्री का दिव्य सत्संग एवं दैवीकार्यों का लाभ गाँव-गाँव में जन-जन तक पहुँचाना, अखिल भारतीय श्री योग वेदांत सेवा समिति का मुख्य उद्देश्य है |

Upcoming Programs by Ashram Vakta

Admin

वीर्य-उत्पादक योग :

 वीर्य-उत्पादक योग :


(१) शुद्ध कोंच के बीज, विदारीकन्द, गोखरू, शतावरी, अश्वगंधाम प्रत्येक १००-१०० ग्राम, जायफल, छोटी इलायची, पिप्पली प्रत्येक २० ग्राम तथा शुद्ध बंगभस्म १२० ग्राम-इन सभीको अलग-अलग पीसकर अच्छी तरह मिला के काँच की बरनी में रख लें | सुबह ३ ग्राम मिश्रण ८-१० बूंद बड़ का दूध मिला के दूध के साथ सेवन करें |
(२) शुद्ध बंगभस्म १ रत्ती (१२० मी. ग्रा. %) सुबह घी के साथ लें और ऊपर से दूध पी लें | यह प्रयोग ४०-६० दिनों तक करने व ब्रह्मचर्य का पालन करने से शुक्राणुओं की वृद्धि होगी | इससे नपुंसकता में भी लाभ होता है |

- Rishi Prasad Jan' 2012

 
Print
28142 Rate this article:
3.6
Please login or register to post comments.