Sant Shri
  Asharamji Ashram

     Official Website
 
 

Register

 

Login

Follow Us At      
40+ Years, Over 425 Ashrams, more than 1400 Samitis and 17000+ Balsanskars, 50+ Gurukuls. Millions of Sadhaks and Followers.

Get Adobe Flash player Install latest flash player if you can't see this gallery, or click here to see the html version.

Time to Knot Rakhi : 10th Aug 2014 After 1:38 PM
पूज्य श्री को बांधे मानसिक राखी - click here


Rakshabandhan Articles
संकल्पशक्ति का प्रतीक : रक्षाबंधन संकल्पशक्ति का प्रतीक : रक्षाबंधन :
संकल्पशक्ति का प्रतीक : रक्षाबंधन भारतीय संस्कृति का रक्षाबंधन महोत्सव, जो श्रावणी पूनम के दिन मनाया जाता हे, आत्मनिर्माण , आत्मविकास का पर्व हे . आज के दिन पृथ्वी ने मानो हरी साडी पहनी है | अपने हृदय को भी प्रेमाभक्ति से, सदाचार - सयंम से पूर्ण करने के लिए प्रोत्साहित करने वाला यह पर्व है | आज रक्...



गुरु संकल्प को साकार करनेवाली : श्रावणी पूर्णिमा गुरु संकल्प को साकार करनेवाली : श्रावणी पूर्णिमा :
गुरु संकल्प को साकार करनेवाली : श्रावणी पूर्णिमा - पूज्य बापूजी श्रावणी पूर्णिमा को राखी पूर्णिमा कहते हैं । अरक्षित चित्त को, अरक्षित जीव को सुरक्षित करने का मार्ग देनेवाली और संकल्प को साकार करानेवाली पूर्णिमा है ‘श्रावणी पूर्णिमा'। यह ब्राह्मणों के लिए जनेऊ बदलकर ब्रह्माजी और सूर्यदेव से वर्ष भर...



कर्मबंधन से बचाये रक्षाबंधन कर्मबंधन से बचाये रक्षाबंधन :
कर्मबंधन से बचाये रक्षाबंधन यूँ तो रक्षाबंधन भाई-बहन का त्यौहार है, भाई-बहन के बीच प्रेमतंतु को निभाने का वचन देने का दिन है, अपने विकारों पर विजय पाने का, विकारों पर नियंत्रण पाने का दिन है एवं बहन के लिए अपने भाई के द्वारा संरक्षण पाने का दिन है लेकिन विशाल अर्थ में आज का दिन शुभ संकल्प करने का द...



Audios

Aatmvishranti -1 >> Download

Aatmvishranti -2 >> Download

Rakshakavach -1 >> Download

Rakshakavach -2 >> Download

Bhajan - Sadhkon ne hai baandhi prem ki dori >> Download

Pamphlet

Rakshabandhan Pamphlet

Hindi  >> View Here >>  Download Here

Gujarati >> View Here >> Download Here

Rakshabandhan Karyakam
Pamphlet
Minimize
रक्षासूत्र बाँधने हेतु निषेध काल

 भद्राकाल में रक्षासूत्र बँधवाने से होती है हानि
पूज्य बापूजी कहते हैं : "जैसे शनि की क्रूर दृष्टी हानि करती है, ऐसे ही शनि की बहन भद्रा, उसका प्रभाव भी नुकसान करता है । अत: भद्राकाल  रक्षासूत्र नहीं बाँधना चाहिए । रावण ने भद्राकाल में सूर्पणखा से रक्षासूत्र बँधवा लिया, परिणाम यह हुआ कि उसी वर्ष में उसका कुलसहित नाश हुआ । इस काल में कोई बहन अपने भाई को राखी न बाँधे ।
भद्राकाल की कुदृष्टि से कुल में हानि होने की संभावना बढ़ती है ।"
इस बार 10 अगस्त को दोपहर 1:38 P.M. मिनट तक भद्राकाल है, इसके बाद ही राखी बाँधे ।  

Wallpapers

वृद्धाश्रम में मनाया रक्षा बंधन
Show 
 per page
Previous
1 2
Next
Videos
Show 
 per page
Previous
1 2
Next
वैदिक रक्षा सूत्र
 प्रतिवर्ष श्रावणी-पूर्णिमा को रक्षाबंधन का त्यौहार होता है, इस दिन बहनें अपने भाई को रक्षा-सूत्र बांधती हैं । यह रक्षा सूत्र यदि वैदिक रीति से बनाई जाए तो शास्त्रों में उसका बड़ा महत्व है ।

वैदिक रक्षा सूत्र बनाने की विधि :

इसके लिए ५ वस्तुओं की आवश्यकता होती है -
(१) दूर्वा (घास) (२) अक्षत (चावल) (३) केसर (४) चन्दन (५) सरसों के दाने ।
             इन ५ वस्तुओं को रेशम के कपड़े में लेकर उसे बांध दें या सिलाई कर दें, फिर उसे कलावा में पिरो दें, इस प्रकार वैदिक राखी तैयार हो जाएगी ।

इन पांच वस्तुओं का महत्त्व -

(१) दूर्वा - जिस प्रकार दूर्वा का एक अंकुर बो देने पर तेज़ी से फैलता है और हज़ारों की संख्या में उग जाता है, उसी प्रकार मेरे भाई का वंश और उसमे सदगुणों का विकास तेज़ी से हो । सदाचार, मन की पवित्रता तीव्रता से बदता जाए । दूर्वा गणेश जी को प्रिय है अर्थात हम जिसे राखी बाँध रहे हैं, उनके जीवन में विघ्नों का नाश हो जाए ।
(२) अक्षत - हमारी गुरुदेव के प्रति श्रद्धा कभी क्षत-विक्षत ना हो सदा अक्षत रहे ।
(३) केसर - केसर की प्रकृति तेज़ होती है अर्थात हम जिसे राखी बाँध रहे हैं, वह तेजस्वी हो । उनके जीवन में आध्यात्मिकता का तेज, भक्ति का तेज कभी कम ना हो ।
(४) चन्दन - चन्दन की प्रकृति तेज होती है और यह सुगंध देता है । उसी प्रकार उनके जीवन में शीतलता बनी रहे, कभी मानसिक तनाव ना हो । साथ ही उनके जीवन में परोपकार, सदाचार और संयम की सुगंध फैलती रहे ।
(५) सरसों के दाने - सरसों की प्रकृति तीक्ष्ण होती है अर्थात इससे यह संकेत मिलता है कि समाज के दुर्गुणों को, कंटकों को समाप्त करने में हम तीक्ष्ण बनें ।

इस प्रकार इन पांच वस्तुओं से बनी हुई एक राखी को सर्वप्रथम गुरुदेव के श्री-चित्र पर अर्पित करें । फिर बहनें अपने भाई को, माता अपने बच्चों को, दादी अपने पोते को शुभ संकल्प करके बांधे ।

महाभारत में यह रक्षा सूत्र माता कुंती ने अपने पोते अभिमन्यु को बाँधी थी । जब तक यह धागा अभिमन्यु के हाथ में था तब तक उसकी रक्षा हुई, धागा टूटने पर अभिमन्यु की मृत्यु हुई ।

इस प्रकार इन पांच वस्तुओं से बनी हुई वैदिक राखी को शास्त्रोक्त नियमानुसार बांधते हैं हम पुत्र-पौत्र एवं बंधुजनों सहित वर्ष भर सूखी रहते हैं ।

राखी बाँधते समय बहन यह मंत्र बोले –
येन बद्धो बली राजा दानवेन्द्रो महाबल: |
तेन त्वां अभिबन्धामि रक्षे मा चल मा चल ||

शिष्य गुरु को रक्षासूत्र बाँधते समय –
‘अभिबन्धामि ‘ के स्थान पर ‘रक्षबन्धामि’ कहे |

Copyright © Shri Yoga Vedanta Ashram. All rights reserved. The Official website of Param Pujya Bapuji